नयी दिल्ली: वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया ने देश में ही बनाए गए हल्के लड़ाकू विमान तेजस में उड़ान भर कर एक बार फिर उसकी संचालन तथा मारक क्षमता को परखा है। देश के प्रमुख रक्षा उपक्रम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा बनाया गया तेजस विमान पहले से ही वायु सना के बेड़े में शामिल है और अब उसके उन्नत संस्करण तैयार किए जा रहे हैं।

वायु सेना प्रमुख मंगलवार और बुधवार को अपने दो दिन के बेंगलुरु दौरे के दौरान वायु सेना की विभिन्न इकाईयों में गए। उन्होंने रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) तथा हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के कुछ केंद्रों का भी दौरा किया। वायुसेना के अधिकारियों ने एयर चीफ मार्शल को विभिन्न परियोजनाओं और संचालन संबंधी परीक्षणों की जानकारी दी। उन्होंने विमान परीक्षण से संबंधित प्रतिष्ठानों की चुनौतियां के संदर्भ में किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की और उनसे बदलती जरूरतों के अनुसार काम करने को कहा।

सावधान, कोरोना रोगियो का पड़ सकता है दिल का दौरा

सॉफ्टवेयर सेंटर कभी किया दौरा

वायु सेना प्रमुख ने विमान संबंधी सॉफ्टवेयर का विकास करने वाले केंद्रों का भी दौरा किया। सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में स्वदेशी करण पर बल देते हुए उन्होंने लड़ाकू विमानों में विभिन्न हथियार प्रणालियों के एकीकरण तथा विमानों की मारक क्षमता बढ़ाने की दिशा में काम करने पर जोर दिया। उन्होंने एचएल के इंजीनियरों से भी मुलाकात की और वायुसेना की भविष्य की जरूरतों के बारे में चर्चा की।
बाद में उन्होंने तेजस लड़ाकू विमान में उड़ान भी भरी।