सराय अकिल में धड़ल्ले से महंगे दामो पर बिक गुटका, प्रशासन मौन

सराय अकिल में धड़ल्ले से महंगे दामो पर बिक गुटका, प्रशासन मौन

कौशाम्बी: सरकार ने लाकडाउन के दौरान पान मसाला और गुटखा के बिक्री पर प्रतिबंधित है, बावजूद इसके नगर पंचायत सराय अकिल में चोरी छिपे धड़ल्ले से तिगुना और चौगुना दाम पर बेचा जा रहा है। मामले की जानकारी प्रशासन को होने के बावजूद भी मौन है।सराय अकिल के सभी प्रकार के पान मसाला के थोक

कौशाम्बी: सरकार ने लाकडाउन के दौरान पान मसाला और गुटखा के बिक्री पर प्रतिबंधित है, बावजूद इसके नगर पंचायत सराय अकिल में चोरी छिपे धड़ल्ले से तिगुना और चौगुना दाम पर बेचा जा रहा है। मामले की जानकारी प्रशासन को होने के बावजूद भी मौन है।
सराय अकिल के सभी प्रकार के पान मसाला के थोक विक्रेता कोरोना महामारी से लाकडाउन को भापते हुए बड़ी मात्रा में पहले से ही सभी प्रकार के पान मसाला, गुटखा एवं सिगरेट को डंप कर लिया था। 24 मार्च को लाकडाउन के बाद थोक विक्रेता चोरी छिपे सिंगरेट दुगने  तिगने दामों पर बेच रहें है, वही प्रतिबंधित पान मसाला और गुटखा तीन से चार गुना दाम पर बेच रहे हैं। बाजार में बिकने वाला ढाई रूपये का शुद्ध प्लस गुटखा सात रूपये में, विमल गुटखा आठ से दस रूपये का एक बेचा रहा है। जबकि पांच रूपये में बिकने वाली आशा तंबाकू की पाउच 10 रूपये से लेकर 12 रूपये में बेची जा रही है। कई दुकानदार तो पुराने एक्सपायर हो चुके गुटखे को भी बेच रहे हैं। जो लोगो के स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक है। पैसा कमाने के लिए ऐसे दुकानदारो के प्रति प्रशासन का रवैया बेहद चिंताजनक है। लाकडाउन के नाम पर किराना के दुकानदार बड़े पैमाने पर कालाबाजारी कर रहे हैं। अभिमन्यु, राम औतार और उत्कर्ष कुमार का कहना है कि काला बाजारी सहित प्रतिबंधित पान मसाला, गुटखा बेचने वाले दुकानदारों के खिलाफ प्रशासन को कड़ा कदम उठाते छापेमारी कर कार्रवाई होनी चाहिए।

रिपोर्ट श्रीकान्त यादव

Also Read अतिक्रमण पर चला नगर निगम का पीला पंजा

Follow Us