जिले में आज भी इंसानियत अभी जिंदा है

जिले में आज भी इंसानियत अभी जिंदा है

उदी इटावा :- आज 75 वर्षीय राम दुलारे राजपूत व उनके बेटे पूरन सिंह राजपूत निवासी ब्लॉक बढ़पुरा ग्राम पंचायत दवा भटपुरा के रहने वाले एक किसान है जोकि कल दशहेरा पर तरबूज खरीदने उदी चौराहे पर गये चूँकि दशहेरे पर तरबूज खाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। इसलिए जब चौराहे पर

उदी इटावा :- आज 75 वर्षीय राम दुलारे राजपूत व उनके बेटे पूरन सिंह राजपूत निवासी ब्लॉक बढ़पुरा ग्राम पंचायत दवा भटपुरा के रहने वाले एक किसान है जोकि कल दशहेरा पर तरबूज खरीदने उदी चौराहे पर गये चूँकि दशहेरे पर तरबूज खाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। इसलिए जब चौराहे पर लेने पहुँचे तो वहाँ कुछ बच्चे अपनी माताओं के साथ तरबूज खरीदने आये लेकिन 10 रु किलो तरबूज था जोकि खरीद न सके। फिर क्या राम दुलारे राजपूत ने अपने बेटे पूरन राजपूत को चार ट्रॉली तरबूज मंगवाने को कहा और तरबूज समस्त ग्राम पंचायत में बटवाना शुरू कर दिया। रमी का वर, दवा, भटपुरा, हवेली इत्यादि गाँव में स्वयं अपने 6 बच्चों के साथ घर-घर तरबूज भिजवाये। राम दुलारे राजपूत के साथ उनके बेटे विजय सिंह, मुकेश, तेज सिंह, राजेंद्र राजपूत, अनिल ने दिल खोलकर साथ दिया।

रिपोर्ट शिवम दुबे/ रिंकू तिवारी

Also Read स्थानीय सुरक्षा बलों ने 92 लाख स्मैक सहित दो अभियुक्त को किया गिरफ्तार

Related Posts

Follow Us