पर्यावरण दिवस के अवसर पर 5 पौधों को हाइवे के किनारे रोपित किया

पर्यावरण दिवस के अवसर पर 5 पौधों को हाइवे के किनारे रोपित किया

इटावा :- फाउंडेशन के संस्थापक रवीन्द्र चौहान ने कहा ”वृक्ष कबहुँ नहीं फल भखै, नदी न संचै नीर ।परमारथ के कारने, साधुन धरा शरीर”सन्त कबीर के इस कथन को नकारा नही जा सकता है। पेड़ पौधों के महत्व को कभी भी कमतर नहीं का जा सकता, क्योंकि ये हमारे जीवन के लिए अत्यन्त आवश्यक हैं

इटावा :- फाउंडेशन के संस्थापक रवीन्द्र चौहान ने कहा ”वृक्ष कबहुँ नहीं फल भखै, नदी न संचै नीर ।परमारथ के कारने, साधुन धरा शरीर”
सन्त कबीर के इस कथन को नकारा नही जा सकता है। पेड़ पौधों के महत्व को कभी भी कमतर नहीं का जा सकता, क्योंकि ये हमारे जीवन के लिए अत्यन्त आवश्यक हैं । तभी तो हमारे देश में पेड-पौधों की भी पूजा की जाती है । आदिकाल से वन मनुष्य की जरूरतओं की पूर्ति करते आ रहे हैं। हमारे जीवन में वृक्षों का महत्वपूर्ण स्थान है।”

अध्यक्ष ध्रुव पुरवार ने कहा “पेड़ पौधे मनुष्य को अनाज, जड़ी बूटी, फल फूल और ईंधन उपलब्ध कराते हैं। मकान बनाने के लिए लकड़ी देते हैं। सबसे बड़ी बात पेड़ प्राणियों को शुद्ध वायु प्रदान करते हैं, प्रदूषण को रोकते हैं, पानी के बहाव एवं मिट्टी के कटाव को रोकते हैं और पर्यावरण के संतुलन को बनाने में सहायक होते हैं।

Also Read मथुरा में यमुना एक्सप्रेस - वे पर हुये हादसे से कई विदेशी पर्यटक घायल

रिपोर्ट शिवम दुबे

Follow Us