“एक डोली उठी एक अर्थी उठी फर्क दोनों में क्या है बता दे सखी”अभी तक तो आपने इस वाक्य को गाने में ही सुना होगा आज देखने को मिला

“एक डोली उठी एक अर्थी उठी फर्क दोनों में क्या है बता दे सखी”अभी तक तो आपने इस वाक्य को गाने में ही सुना होगा आज देखने को मिला

इटावा(बसरेहर) :- थाना क्षेत्र अंतर्गत आज सुबह एक तरफ बेटी की डोली उठी,,,, दूसरी तरफ माँ की उठी अर्थी पूरा मामला है ब्लॉक बसरेहर के एक ग्राम बहादुरपुर का जहाँ सुबह के करीब ( 05:30 AM ) बजे हँसी खुशी से *( मृतक ) बेबी दुबे* अपनी बेटी ज्योति को ससुराल के लिए बिदा किया

इटावा(बसरेहर) :- थाना क्षेत्र अंतर्गत आज सुबह एक तरफ बेटी की डोली उठी,,,, दूसरी तरफ माँ की उठी अर्थी

पूरा मामला है ब्लॉक बसरेहर के एक ग्राम बहादुरपुर का जहाँ सुबह के करीब ( 05:30 AM ) बजे हँसी खुशी से *( मृतक ) बेबी दुबे* अपनी बेटी ज्योति को ससुराल के लिए बिदा किया ही था कि ज्योति की माँ मौत की नींद सो गई। माँ कैंसर से पीड़ित थी,जिनका इलाज पहले कानपुर और फिर ग्वालियर से चल रहा था,मृतक के पति अरुण दुबे गांव में ही रहकर खेती करके अपना पेट पालते हैं।

Also Read आवारा पशुओं की बढ़ती तादाद से राहगीरों समेत किसान परेशान

अरुण के 4 बच्चे हैं जिनमें 3 बेटी और एक ही बेटा है  तीनों बच्चों की शादी हो चुकी थी। और कल दिनांक 15-06-2020 को सबसे छोटी बेटी ज्योति की भी शादी अतराजपुर/छिबरामऊ जनपद कन्नौज में शिवम तिवारी के साथ समपन्न हो गयी थी,ज्योति को बिदा करते ही माँ ने सुबह करीब 05:30 am पर आखिरी सांस ली और परलोक सिधार गयीं।

अब पूरा घर सदमे में है कोई भी बात करने की स्थिति में नहीं है। ज्योति के पिता ने बताया हम  बैसे भी बहुत बुरे बक्त से गुजर रहे हैं जैसे तैसे खेती-पाती करके हमने चारों बच्चों की पढ़ाई से लेकर शादी तक का कर्ज उतार दिया। अब जब आराम करने का समय आया तो मेरी पत्नी मेरा साथ छोड़कर चली गयी।

तीन महीने पहले मेरी पत्नी की अचानक से तबियत बिगड़ गयी,,,पहले तो हमने पत्नी ( बेबी ) को इटावा के ही निजी अस्पताल में दिखाया जब कुछ आराम दिखाई नहीं दिया तो कुछ दिनों बाद उनको कानपुर के एक अस्पताल में दिखाया जहाँ उनकी रिपोर्ट में कैंसर की पुष्टि हुई।

तो कुछ दिनों कानपुर से इलाज चला जिसके बाद उनको ग्वालियर लेकर गए,अभी उनका इलाज ग्वालियर से चल रहा था बेटी की शादी को लेकर बेहद खुश भी थी लाखों रुपए खर्च करने के बाद भी मेरी पत्नी को कुछ आराम नही मिला और आज बेटी की बिदाई के केवल पांच मिनट उनकी मृत्यु हो गयी।

रिपोर्ट शिवम दुबे

Follow Us