सपा के कार्यकर्ताओं ने एफआईआर के लिए बाबूगढ़ थाना मे दिया ज्ञापन

सपा के कार्यकर्ताओं ने एफआईआर के लिए बाबूगढ़ थाना मे दिया ज्ञापन

हापुड़ :- उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ में पूर्व दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री सुधाकर कश्यप के नेतृत्व में दर्जनों समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बाबूगढ़ थाना पहुंच कर एक तहरीर देते हुए अमरोहा में तैनात चकबंदी बंदोबस्त अधिकारी नितिन चौहान के खिलाफ कठोर वैधानिक कार्यवाही की मांग की। अपने

हापुड़ :- उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ में पूर्व दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री सुधाकर कश्यप के नेतृत्व में दर्जनों समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बाबूगढ़ थाना पहुंच कर एक तहरीर देते हुए अमरोहा में तैनात चकबंदी बंदोबस्त अधिकारी नितिन चौहान के खिलाफ कठोर वैधानिक कार्यवाही की मांग की।


अपने प्रार्थना पत्र में समाजवादी पार्टी के नेताओं ने कहा कि अमरोहा में तैनात चकबंदी बंदोबस्त अधिकारी नितिन चौहान ने जहां एक सभा के दौरान समाजवादी पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के आदर्श एवं संरक्षक मुलायम सिंह यादव तथा समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव के लिए।

Also Read किसानों की आय बढ़ाने के लिए तकनीकी जरूरी एसडीएम

जो अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए गंदी-गंदी गालियों का प्रयोग किया है तथा किसानों के साथ भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया है उसके लिए वह उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर वैधानिक कार्यवाही की मांग करते हैं ।


हमारे मेरठ मंडल प्रभारी अतुल त्यागी से बात करते हुए पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री सुधाकर कश्यप ने कहा कि सरकारे आती जाती रहती हैं एक पढ़े-लिखे अधिकारी को ऐसी अभद्र भाषा का प्रयोग करना उसकी मानसिकता को दर्शाता है समाजवादी पार्टी जहां सरकार से उसे तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने की मांग करती है।

तो वही वैधानिक कार्यवाही किए जाने की भी मांग करती है और अगर सरकार ने उनकी मांगों को नहीं माना तो समाजवादी पार्टी का एक-एक कार्यकर्ता थानों से लेकर सड़कों तक आंदोलन के लिए बाध्य होगा। वही कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के संबंध में बात करने पर उन्होंने कहा।

कि देश के  प्रधानमंत्री 4 नवंबर में देश में पहला कोरोना संक्रमण मरीज पाए जाने के बाद ही कोरोना की रोकथाम के लिए सभी है सभी अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को सील कर देना चाहिए था साथ ही विदेशों से आने वाले प्रत्येक नागरिक को उसी देश में करंट टाइम कर देना चाहिए था परंतु देश के प्रधानमंत्री को तो दिसंबर माह में नमस्ते ट्रंप करना दिखाई दे रहा था।

इसलिए उन्होंने देश को इस कोरोनावायरस महामारी जैसी आग में झोंक दिया आंजना किसान सुरक्षित है ना गरीब सुरक्षित है और तो और इस प्रदेश और देश में पत्रकार भी सुरक्षित नहीं है पत्रकारों पर जहां निरंतर हमले हो रहे हैं।

उन्हें मौत के घाट उतारा जा रहा है यह बड़ा ही निंदनीय किसान को जनता को गरीब को भूखा मरने की कगार पर भाजपा की सरकार ने खड़ा कर दिया जिसका आने वाले समय में जनता करारा जवाब देने का काम करें।

रिपोर्ट अतुल त्यागी

Follow Us