कोविड महामारी के दौरान इमर्जेंसी सेवायें एवं आप्रेशन जारी

कोविड महामारी के दौरान इमर्जेंसी सेवायें एवं आप्रेशन जारी

इटावा :- सैफई पूजा गुप्ता उम्र 23 वर्ष निवासी ग्राम रनिया, कानपुर देहात की जान सैफई विश्वविद्यालय के कुलपति एवं जाने-माने न्यूरोसर्जन प्रो0 (डा0) राजकुमार ने विश्वस्तरीय एवं अद्वितीय सर्जरी के द्वारा बचाई। मरीज को पिछले पाॅच वर्ष से सिरदर्द की तकलीफ थी। उन्होंने सैफई विश्वविद्यालय के न्यूरो सर्जरी विभाग में दिखाया तथा शुरूआती जाॅचों

इटावा :- सैफई पूजा गुप्ता उम्र 23 वर्ष निवासी ग्राम रनिया, कानपुर देहात की जान सैफई विश्वविद्यालय के कुलपति एवं जाने-माने न्यूरोसर्जन प्रो0 (डा0) राजकुमार ने विश्वस्तरीय एवं अद्वितीय सर्जरी के द्वारा बचाई। मरीज को पिछले पाॅच वर्ष से सिरदर्द की तकलीफ थी।

उन्होंने सैफई विश्वविद्यालय के न्यूरो सर्जरी विभाग में दिखाया तथा शुरूआती जाॅचों के बाद एमआरआई से पता चला कि उनके दिमाग में राइट पेराफेल्साइन ट्यूमर है। जिसके लिए उन्हें सर्जरी की सलाह दी गयी। यह गंभीर न्यूरो सर्जरी विश्वविद्यालय के कुलपति एवं जाने माने न्यूरो सर्जन प्रो0 डा0 राजकुमार ने की।

Also Read सीएम योगी ने आबकारी सिपाहियों को दिया नियुक्ति पत्र

आप्रेशन में ढाई घंटे का समय लगा। इस ऐतिहासिक सर्जरी में डा0 राजकुमार एवं उनकी टीम के सदस्य डा0 फहीम, डा0 अहमद अंसारी, डा0 हनुमान तथा एनेस्थेसिक डा0 उर्वशी एवं ओटी स्टाफ ने भाग लिया।

इस प्रकार के जटिल ट्यूमर का सफलतापूर्वक आप्रेशन कर सैफई विश्वविद्यालय ने प्रदेश में एक नया अध्याय रच दिया। मरीज पूजा गुप्ता आप्रेशन के बाद बिल्कुल स्वस्थ हैं  तथा जल्दी ही उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी जायेगी।


आप्रेशन करने वाले जाने-माने न्यूरोसर्जन एवं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 (डा0) राजकुमार ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा कोविड महामारी में भी इमर्जेंसी सेवायें जारी हैं। इसके अलावा कोविड-19 अस्पताल में अभी तक 233 कोविड संक्रमित मरीज भर्ती किये जा चुके हैं जिनमें से 132 मरीज ठीक होकर डिसचार्ज किये जा चुके हैं।

अस्पताल प्रशासन द्वारा नियमित रूप से इमरजेंसी सेवाएं भी लगातार 24 घंटे प्रदान की जा रही है। जिसमें इमर्जेंसी एवं ट्रामा, मेडिसिन आईसीयू, डायलिसिस, हेड इंजरी आईसीयू, लेबर रूम, बर्न वार्ड इत्यादि में चिकित्सकीय सेवाएं लगातार दी जा रही हैं।

इसके अलावा विश्वविद्यालय द्वारा टेलिमेडिसिन के माध्यम से भी 11 विभागों द्वारा मरीजों को चिकित्सकीय परामर्श दिया जा रहा है। इमर्जेंसी ट्रामा में प्रतिदिन लगभग 200 से 275 गंभीर मरीज देखे जा रहे है।


इस सम्बन्ध में न्यूरो सर्जरी के विभागाध्यक्ष डा0 फहीम ने बताया कि जाने-माने न्यूरोसर्जन एवं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 (डा0) राजकुमार तथा टीम द्वारा पूजा गुप्ता उम्र 23 वर्ष निवासी ग्राम रनिया, कानपुर देहात के 7.5गुणा 4 सेमी0 के राइट पेराफेल्साइन ट्यूमर का आप्रेशन कर पूरा ट्यूमर निकाल दिया गया जो मरीज के दिमाग के पिछले एक तिहायी हिस्से में था।

जिससे मरीज के दिमाग में दबाव बन रहा था। जिससे दिमाग के पिछले हिस्से में रक्त प्रवाह में दिक्कत हो रही थी। उन्होंने बताया कि यह एक जटिल सर्जरी है तथा सर्जरी के दौरान खून का ज्यादा बहना लम्बे समय तक बेहोशी, लकवा, दौरे, साॅस की मशीन आदि पर जाने का खतरा होता है।

उन्होंने यह भी बताया कि कुलपति प्रो0 डा0 राजकुमार के नेतृत्व में न्यूरोसर्जरी विभाग में होने वाले आप्रेशन में गई गुना बढ़ोत्तरी हुई है एवं माइक्रोस्कोपिक एवं एंडोस्कोपिक न्यूरोसर्जरी जैसी अति उन्नत एवं सफल तकनीक से सैफई विश्वविद्यालय ने प्रदेश में एक विशिष्ट पहचान बना लिया है।

प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना के अन्र्तगत भी कई मरीजों का न्यूरोसर्जरी विभाग में सफलतापूर्वक इलाज किया जा चुका है।


इस सफल आप्रेशन पर प्रतिकुलपति  डा0 रमाकान्त यादव, कुलसचिव सुरेश चन्द्र शर्मा, संकाय अध्यक्ष डा0 आलोक कुमार, चिकित्सा अधीक्षक डा0 आदेश कुमार ने आप्रेशन करने वाली टीम को बधाई दी तथा मरीज के ठीक होने पर हर्ष जताया।  

रिपोर्ट शिवम दुबे

Follow Us