इस अव्यवस्था के पीछे कौन

इस अव्यवस्था के पीछे कौन

बहराइच :- हम लोंग कभी भी एक्टिविस्ट बनने का प्रयास नही करते बल्कि प्रयास यह रहता है एक समानांतर सेवा खड़ी करले और किसी की मदद हो जाये ,मगर दीमक की तरह चटे हुए सिस्टम को देख कर मन दुःखी है और बेहद चिन्तिति है । नीचे जो फ़ोटो सलंग्न है वो कोरोना मरीज को

बहराइच :- हम लोंग कभी भी एक्टिविस्ट बनने का प्रयास नही करते बल्कि प्रयास यह रहता है एक समानांतर सेवा खड़ी करले और किसी की मदद हो जाये ,मगर दीमक की तरह चटे हुए सिस्टम को देख कर मन दुःखी है और बेहद चिन्तिति है ।



नीचे जो फ़ोटो सलंग्न है वो कोरोना मरीज को दिया गया आज शाम का भोजन है , ज्ञात हो पिछले दो दिनों से हमारा एक करीबी चित्तोरा (बहराइच )कोरोना वार्ड में भर्ती है और उसकी स्थिति थोड़ी गम्भीर है इसलिए लगातार फ़ोन पर स्वास्थ्य की जानकारी ले रहे है ।कल सुबह से ही वो हमें फोन पर बता रहा है कि यहाँ का खाना खाने से उसे उल्टी हो रही है।

Also Read सड़क हादसा :: बेकाबू बाइक पुलिया से टकराई , युवक की मौत


यहाँ पर मरीजी डाइट देखिये
सुबह चना (10 बजे) ,दोपहर में रोटी सब्जी (2 बजे),शाम को फिर यही खाना (7 बजे)
कोई फल नही,कोई काढ़ा नही,कोई चाय नही और खाना भी प्रतिबंधित थैली में ।


जब कि हम सब ये जानते है की कोरोना की कोई दवा नही है और केवल स्ट्रांग इम्युनिटी ,अच्छा खान- पान और ऊंचा मनोबल ही दवा है। क्या आप लोंगो को लगता है कि यह खाना इम्युनिटी बढ़ाएगा या यह मानले कि भर्ती होने के लिए ही बड़ी इम्युनिटी चाहिए ।


जटिल बात ये है कि हम यहाँ अपना खाना पहुंचा नही सकते , बाहर से मरीज कुछ मंगा नही सकता , मीडिया अंदर जाएगी नही , मिलने वाला जाएगा नही और जनप्रतिनिधि मौन रहेंगे | दहशत की आड़ में क्या हो जाय कुछ पता नही ।



अपने लिए तो हम जोड़ तोड़ करके सहायता पहुंचा ही लेंगे मगर प्रश्न यह कि इस अव्यवस्था के पीछे कौन और इसका सुधार कैसे ??


रिपोर्ट गौरव शुक्ला

Related Posts

Follow Us