नगर पालिका बिंदकी में तैनात सरकारी मुलाजिम अपने पद का दुरुपयोग कर किया तांडव व कोरोना योद्धाओं का किया अपमान

नगर पालिका बिंदकी में तैनात सरकारी मुलाजिम अपने पद का दुरुपयोग कर किया तांडव व कोरोना योद्धाओं का किया अपमान

फतेहपुर -:- बिंदकी तहसील के पीछे नगर पालिका सफाई नायक सुरेन्द्र कुमार पाण्डेय के पूरे परिवार में 4 लोग कोरोना पॉजिटिव आये थे जिन्हें एम्बुलेंस कोविड हॉस्पिटल ले जाने के लिए बुधवार की सुबह उनके आवास में पहुँची जहाँ उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों भेजने से साफ इंकार कर दिया इतना ही नहीं बल्कि उनके

फतेहपुर -:- बिंदकी तहसील के पीछे नगर पालिका सफाई नायक सुरेन्द्र कुमार पाण्डेय के पूरे परिवार में 4 लोग कोरोना पॉजिटिव आये थे जिन्हें एम्बुलेंस कोविड हॉस्पिटल ले जाने के लिए बुधवार की सुबह उनके आवास में पहुँची जहाँ उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों भेजने से साफ इंकार कर दिया इतना ही नहीं बल्कि उनके आवास में पहुंचे स्थानीय प्रशासन को अपने ऊपर मुकदमा दर्ज करने को लेकर भी चेतावनी दे दी.

इस बारे में मौके पर आये कांस्टेबल संदीप तिवारी व आशीष कुमार यादव ने जब इसकी जानकारी बिंदकी उपजिलाधिकारी आशीष सिंह को दी तो उपजिलाधिकारी ने अपने गनर व ड्राइवर अखिलेश कुमार को अपना प्रतिनिधि बनाकर उन्हें समझा बुझाकर हॉस्पिटल जाने के लिए कहा जब उक्त सभी लोग मौके पर पहुँचें तो बिंदकी नगर पालिका में तैनात सफाई नायक सुरेन्द्र कुमार पाण्डेय का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया और अपने घर से नीचे उतरकर बात किये जाने के बजाय छत से ही तेज आवाज में बात करने लगा व उपजिलाधिकारी आशीष सिंह के आदेशों को भी मानने से इंकार कर दिया जिसके बाद प्रशासन को आखिरकार हार का सामना करना ही पड़ा लेकिन बात यहीं खत्म नहीं होती है बल्कि यह मामला देखते ही देखते इतना तूल पकड़ लिया कि हर जगह आम जनमानस में प्रशासन के प्रति लोगों के मन में कई सवाल उठने लगे कोई कहता कि अब भला प्रशासन कोविड 19 के प्रति उल्लंघन के तहत भला स्थानीय प्रशासन मुकदमा दर्ज कर लेता,तो कोई कहता कि बात सरकारी विभाग की है तो सरकार के सरकारी नौकर अपने नौकरों को तो बचाएंगे ही हैरत तो तब हुई जब इस बाबत बिंदकी नगर पालिका की अधिशाषी अधिकारी निरुपमा प्रताप सिंह से बात कर अपने विभाग में तैनात सरकारी कर्मचारी की इस तरह की अभद्रता को लेकर क्या कार्यवाही विभाग द्वारा कर्मचारी पर की जा रही है कि जानकारी मीडिया द्वारा ली गयी तो उनके द्वारा कहा गया कि उक्त सफाई नायक को हम लोगों ने बहुत समझाया बस इतना कहकर उनके द्वारा फोन काट दिया गया जब विभाग में बैठे आला अधिकारी ही कोरोना योद्धाओं का सहयोग नहीं करेंगे तो फिर इन कोरोना योद्धाओं का सम्मान कौन करेगा क्या सिर्फ एक ही दिन ताली और थाली व मोमबत्ती,मोबाइल की टॉर्च जलाने मात्र से ही कोरोना से लड़कर कोरोना से लोगों को बचाने वाले कोरोना योद्धाओं को सम्मान मिल जाएगा उक्त सफाई नायक द्वारा की गई इस तरह की उक्त हरकत कोरोना योद्धाओं के हौंसलों को कमजोर कर देने जैसी है जहाँ ऐसे समय मे सभी लोगों को कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से बचाने वाले लोगों का सहयोग कर उन्हें हौंसला देकर उनका सहयोग करना चाहिए था वहाँ उनके हौसलों को पलीता लगाकर इस तरह के कर्मचारी आम लोगों को भी कोरोना योद्धाओं के प्रति हीन भावना पैदा करने का दुस्साहस करना बहुत ही निंदनीय है क्या प्रशासन द्वारा इस तरह की लापरवाही बरतते हुए ढील देना आगे चलकर खुद प्रशासन के लिए ही यह कदम नासूर बन सकता है

Also Read मोबाइल के शोरूम की शटर काटकर चोरों ने उड़ाए लाखों रुपये के मोबाइल

जिसका नतीजा आगे आने वाले समय मे भयावह व खौफनाक हो सकता है क्या उस समय स्थानीय प्रशासन उक्त होने वाली समस्त घटनाओं की जिम्मेदारी लेगा ठीक उसी प्रकार से जिस तरह से प्रशासन द्वारा आज कोविड 19 के मरीजों कोविड हॉस्पिटल न भेजकर किया है इस उक्त घटनाक्रम के सम्बन्ध में जब उपजिलाधिकारी आशीष सिंह से बात की गई तो उनके द्वारा फोन नहीं उठाया गया !

Follow Us