दबंग प्रधानपति ‘सामुदायिक स्वास्थ्य उपकेंद्र’ तोड़कर करवा रहा है ‘ शौचालय’ का निर्माण

दबंग प्रधानपति ‘सामुदायिक स्वास्थ्य उपकेंद्र’ तोड़कर करवा रहा है ‘ शौचालय’ का निर्माण

प्रतापगढ़ (उत्तरप्रदेश): कोठार मंगोलपुर गांव का प्रधानपति जो कि स्थानीय जनता के अनुसार अपनी दबंगई और तानाशाही के लिए कुख्यात है, उसका पूरा कार्यकाल ही विवादों के घेरे में रहा है। भ्रष्टाचार में लिप्त आरटीआई के घेरे में फसा प्रधानपति एक बार फिर अपने कुकृत्य से सवालों के घेरे में है। बता दें कि ग्रामसभा

प्रतापगढ़ (उत्तरप्रदेश): कोठार मंगोलपुर गांव का प्रधानपति जो कि स्थानीय जनता के अनुसार अपनी दबंगई और तानाशाही के लिए कुख्यात है, उसका पूरा कार्यकाल ही विवादों के घेरे में रहा है। भ्रष्टाचार में लिप्त आरटीआई के घेरे में फसा प्रधानपति एक बार फिर अपने कुकृत्य से सवालों के घेरे में है।

बता दें कि ग्रामसभा की सरकारी जमीन पर पहले से बने ‘सामुदायिक स्वास्थ्य उपकेंद्र’ जो कि पिछले लगभग 10 वर्षों से जर्जर अवस्था में है, पर दबंग प्रधानपति राकेश दुबे उर्फ़ मटरू द्वारा ज़बरन ‘सार्वजनिक शौचालय’ बनवाया जा रहा है। जिससे समस्त ग्रामवासियों में इस कुकृत्य के लिए आपत्ति के साथ जनाक्रोश भी है तथा उनका कहना है कि स्वास्थ्य उपकेंद्र का पुनः निर्माण किया जाय ना कि उसे तोड़कर या उसकी जमीन पर सार्वजनिक शौचालय बनवाया जाय। आगे उनका कहना है कि अगर शौचालय बनवाना ही है तो कहीं और बनवा दिया जाय न कि स्वास्थ्य उपकेंद्र को तोड़कर।

Also Read करंट लगने से किशोर की मौत,परिवार में मचा कोहराम

क्या है मामला

उपरोक्त मामले ने आज सुबह तूल पकड़ लिया। जब रातों- रात चुपके से शौचालय निर्माण की सूचना ग्रामीणों को लगी। सैकड़ों की संख्या में इस कुकृत्य से नाख़ुश स्थानीय भीड़ इक्कठा होती गई जिसे देख प्रधानपति मौके से फरार हो गया। विवाद बढ़ने की आशंका से पुलिस को फोन किया गया। मौके पर पहुँची पुलिस ने तत्काल काम रुकवाया और प्रधानपति को फोन किया। प्रधानपति ने मौके पर आने से साफ इंकार कर दिया। पुलिस ने इस अवैध कार्य के लिए लिखित सूचना माँगी पर ऐसी कोई सूचना न दिखा पाने की स्थिति में अवैध कार्य को अनिश्चित समय के लिए रोक दिया गया। तब जाकर ग्रामीणों का गुस्सा शांत हुआ।

स्वास्थ्य विभाग और एसडीएम को इस विध्वंसक योजना से पत्र के माध्यम से अवगत करा दिया गया है। जिससे स्वास्थ्य सामुदायिक उपकेंद्र जैसी जगह को बढ़ाये जाने की जगह ध्वंस करने की अनहोनी को टाला जा सके।

रिपोर्ट: हर्षित दुबे

Follow Us