उन्नाव रेप पीड़िता के विरोध के बाद अरूण सिंह का टिकट कटा

उन्नाव रेप पीड़िता के विरोध के बाद अरूण सिंह का टिकट कटा

उन्नाव : उन्नाव के बांगरमऊ के माखी में 2017 में चर्चित सामूहिक बलात्कार कांड की पीड़िता के विरोध जताने के बाद पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के करीबी अरूण सिंह का जिला पंचायत अध्यक्ष का टिकट भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने काट दिया है। उनके स्थान पर अब श्रीमती शकुन सिंह को उम्मीदवार घोषित किया

उन्नाव : उन्नाव के बांगरमऊ के माखी में 2017 में चर्चित सामूहिक बलात्कार कांड की पीड़िता के विरोध जताने के बाद पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के करीबी अरूण सिंह का जिला पंचायत अध्यक्ष का टिकट भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने काट दिया है। उनके स्थान पर अब श्रीमती शकुन सिंह को उम्मीदवार घोषित किया गया है।

दरअसल, अरूण सिंह को भाजपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष का उम्मीदवार बनाया था जिस पर विरोध जताते हुये बलात्कार पीड़िता ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा था और वीडियो वायरल कर अपनी पीड़ा व्यक्त की थी। उसने कहा कि भाजपा ने उन्नाव से जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिये अरूण सिंह को उम्मीदवार बनाया है जो रेप कांड के आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर के करीबी है। पीड़िता का आरोप है कि अरूण सिंह उसके पिता की हत्या में नामजद हैं।

उसने कहा कि भाजपा उन लोगों को टिकट दे रही है जो उसे जान से मारना चाहते हैं। उसे नहीं पता कि भाजपा उसकी मदद कर रही है अथवा उसकी जान की दुश्मन बनी हुयी है। भाजपा के जिला पंचायत राज किशोर रावत ने नवाबगंज के पूर्व ब्लॉक प्रमुख और औरास द्वितीय से निर्वाचित अरुण सिंह को जिला पंचायत अध्यक्ष पद का प्रत्याशी घोषित किया था। इस बारे में उन्होने सफाई देते हुये यूनीवार्ता से कहा कि पार्टी के प्रदेश नेतृत्व के निर्देश पर अरूण सिंह को टिकट दिया गया है। वह क्षेत्र में लोकप्रिय है और जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीते है। भाजपा में हर काम पार्टी गाइडलाइन के अनुसार होता है और इसी नाते बुधवार देर रात उन्होने ट्वीट कर उन्हे प्रत्याशी घोषित किया है।

Also Read बिना ड्राइवर अचानक चल पड़ी मालगाड़ी, 70 किलोमीटर तक दौड़ी, और फिर जो हुआ

राजनीतिक हलकों में इस मसले पर चर्चा के बाद भाजपा ने एक बार फिर यू टर्न लेते हुये अरूण सिंह को प्रत्याशी पद से हटा दिया और उनके स्थान पर पूर्व एमएलसी स्वर्गीय अजीत सिंह की पत्नी एवं बार्ड नम्बर 22 फतेहपुर चौरासी तृतीय से चुनी गयी जिला पंचायत सदस्य शकुन सिंह को जिला पंचायत अध्यक्ष का प्रत्याशी बनाया।
इससे पहले भी भाजपा ने पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर को जिला पंचायत सदस्य का उम्मीदवार बनाया था हालांकि बाद में किरकिरी होने पर यह टिकट काट दिया गया था। संगीता सेंगर को वार्ड नंबर 22 फतेहपुर चौरासी तृतीय से प्रत्याशी घोषित किया गया था।

उधर, अरूण सिंह ने खुद पर लगे आरोपों का खंडन करते हुये कहा कि उन्हे विपक्ष द्वारा फंसाया जा रहा है। सीबीआई ने उन्हे क्लीन चिट दी है। पीड़िता मेरी बहन जैसी है। वह पार्टी के अनुशासित सिपाही है। उन्होने वीडियो के फर्जी होने की आशंका जाहिर करते हुये कहा कि जांच करा कर वह शासन को पत्र लिखेंगे।

2017 के उन्नाव रेप केस में गिरफ्तार कुलदीप सिंह सेंगर को उम्र कैद की सजा सुनाई गयी थी। इसके अलावा उन्हे पीड़िता के पिता की पुलिस हिरासत में मौत के मामले में भी 10 साल की सजा मिली है। भाजपा ने 2019 में चार बार विधायक रह चुके सेंगर को पार्टी से बाहर निकाल दिया था। उनकी विधानसभा सदस्यता भी रद्द कर दी गई है।

वार्ता

Related Posts

Follow Us