बहराइच : चार फर्जी फूड इंस्पेक्टर को गिरफ्तार

बहराइच : चार फर्जी फूड इंस्पेक्टर को गिरफ्तार

बहराइच : उत्तर प्रदेश की बहराइच ज़िला पुलिस ने गुरुवार को पयागपुर में वाकी-टाकी से लैस होकर दुकान में छापेमारी कर अवैध वसूली करने वाले गिरोह के चार फर्जी फूड इंस्पेक्टर गिरफ्तार किये गयेये लोग दुकानदारों को छापेमारी के दौरान कार्रवाई करने की धमकी देकर पैंसे ऐंठने का काम करते थे। पकड़े गए चारों फर्जी

बहराइच :  उत्तर प्रदेश की बहराइच ज़िला पुलिस ने गुरुवार को पयागपुर में वाकी-टाकी से लैस होकर दुकान में छापेमारी कर अवैध वसूली करने वाले गिरोह के चार फर्जी फूड इंस्पेक्टर गिरफ्तार किये गये
ये लोग दुकानदारों को छापेमारी के दौरान कार्रवाई करने की धमकी देकर पैंसे ऐंठने का काम करते थे। पकड़े गए चारों फर्जी फूड इंस्पेक्टर के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि पयागपुर क्षेत्र के खुटेहना बाजार में स्थित दुकानदार खुश मुहम्मद,नीलेश सिंह व सागर किराना स्टोर पर वॉकी टॉकी से लैस होकर बाइक पर सवार दो युवक दुकान पर आए और वाकी टॉकी पर ही बात करते हुए कहा कि दुकान पर पहुंचकर कार्रवाई शुरू कर दिया हूं। उसके बाद दोनों लोग दुकानदारों से अपने आपको फूड विभाग का इंस्पेक्टर बताते हुए छापेमारी करने की बात कही।

Also Read प्रधान ने दी प्रेमी-प्रेमिका को तालिबानी सजा , प्यार करने सजा देखकर आपकी रूह कांप जाएगी

उन्होंने बताया कि इस दुकानदार घबरा गए। दोनों फर्जी में फूड इंस्पेक्टरों ने तीनों दुकानदार से लगभग 12 हजार रूपये ऐंठ लिए और जाने लगे। तभी दुकानदारों को कुछ शक हुआ और पीछा करते हुए उन्हें दबोच लिया और खुटेहना चौकी ले आये। पुलिस की कड़ी पूछताछ में दोनो टूट गए और फर्जी फूड इंस्पेक्टर बनकर वसूली करने की बात स्वीकार की। दोनों गोंडा के नगर कोतवाली क्षेत्र के हारीपुर गांव निवासी ओम चतुर्वेदी पु व तुशांक शुक्ला के रहने वाले हैं।

उनकी निशानदेही पर पयागपुर थानाध्यक्ष बृजानंद सिंह ने दलबल के साथ इनके दो साथियों अशहद आरिफ और जावेद अहमद उर्फ बंटी निवासी नई बस्ती शिवगोपाल मंदिर हलद्वानी नैनीताल को गिरफ्तार किया।

प्रवक्ता ने बताया कि इस सिलसिले में मामला दर्ज कर चारों को जेल भेज दिया। उनके कब्जे एक वाकी टाकी भी बरामद किया गया है। उन्होंने बताया कि फर्जी फूड इंस्पेक्टर बनकर वसूली करने वाले गिरोह का मुख्य आरोपी अशहद आरिफ है। इसके खिलाफ गोंडा के कई थानों में अपराधिक मुकदमे दर्ज है। यह 2018 में फर्जी सीबीआई इंस्पेक्टर बनकर वसूली कर रहा था और जेल भी जा चुका है।

वार्ता

Recent News

Related Posts

Follow Us