झोलाछाप की दवा के रिएक्शन से हुई मासूम की मौत

झोलाछाप की दवा के रिएक्शन से हुई मासूम की मौत

कायमगंज(फर्रुखाबाद) : कहावत है कि नीम हकीम का इलाज हमेशा खतरा ही पैदा करता है। किंतु फिर भी सीधे-साधे लोग जिन्हें झोलाछाप और वास्तविक चिकित्सक के बीच का अंतर ही नहीं मालूम है ।ऐसे ही लोगों को यह झोलाछाप डॉक्टर अपने चंगुल में फसाकर इलाज करने लगते हैं। ऐसे ही एक झोलाछाप ने आज गैर

कायमगंज(फर्रुखाबाद) : कहावत है कि नीम हकीम का इलाज हमेशा खतरा ही पैदा करता है। किंतु फिर भी सीधे-साधे लोग जिन्हें झोलाछाप और वास्तविक चिकित्सक के बीच का अंतर ही नहीं मालूम है ।ऐसे ही लोगों को यह झोलाछाप डॉक्टर अपने चंगुल में फसाकर इलाज करने लगते हैं। ऐसे ही एक झोलाछाप ने आज गैर जानकारी के दवा खिलाकर एक मासूम की जिंदगी समाप्त कर दी। मिली जानकारी के अनुसार कोतवाली कायमगंज क्षेत्र के गांव झब्बूपुर निवासी प्रदीप के 4 वर्षीय मासूम बेटे मोहन के पेट में हल्का सा दर्द हुआ।

घरवाले वही गांव के पास स्थित एक डॉक्टर जो भारती मेडिकल स्टोर के नाम से दवा की दुकान भी चलाता है, और यही आने वाले मरीजों को बुखार खांसी जुकाम आदि की दवाइयां भी देता है, के पास ले गए । उसने नादानी का परिचय देते हुए , बच्चे को दवा खिला दी। जिससे मासूम की हालत पहले से भी ज्यादा बिगड़ने लगी । घबराए परिजन बच्चे को लेकर नगर के बाईपास मार्ग पर स्थित बाल गोपाल हॉस्पिटल पहुंचे। यहां चिकित्सक ने उन्हें सरकारी अस्पताल ले जाकर इलाज कराने की सलाह दी। बच्चे को लेकर घरवाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे । जहां ड्यूटी पर मौजूद डॉ विपिन ने मासूम को देखते ही मृत घोषित कर दिया ।बच्चे की मौत से उसके परिवार में कोहराम मच गया । मां फूलमती का रो -रो कर बुरा हाल हो रहा था।

Also Read उत्तर प्रदेश में GST TEAM की ताबड़तोड़ छापेमारी , टैक्स चोरी के आरोपों में व्यापारी हलकान कई में नाराजगी-रोष व्याप्त

यह कोई पहला मामला नहीं है ,पूरे कायमगंज क्षेत्र में नगर सहित बहुत से झोलाछाप अलग-अलग रोगों के रोग विशेषज्ञ बनकर भोले -भाले लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं ।किंतु न जाने क्यों स्वास्थ्य विभाग सहित प्रशासन ऐसे बेलगाम नीम हकीमओं की ओर ध्यान ही नहीं दे रहा है ।यदि ऐसा ही रहा तो इस तरह की घटनाएं होने से कभी रोका नहीं जा सकता।

  • रिपोर्ट : दानिश खान

Recent News

Related Posts

Follow Us