भ्रष्टाचार के खिलाफ गोंडा डीएम की बड़ी कार्यवाही, तीन ग्राम प्रधान सहित भ्रष्टाचार में शामिल अधिकारियों से रिकवरी के आदेश जारी

भ्रष्टाचार के खिलाफ गोंडा डीएम की बड़ी कार्यवाही, तीन ग्राम प्रधान सहित भ्रष्टाचार में शामिल अधिकारियों से रिकवरी के आदेश जारी

गोंडा:- सरकारी धन का गबन कर भ्रष्टचार करने वाले तीन निवर्तमान ग्राम प्रधानों व एडीओ पंचायत, ग्राम विकास अधिकारी व अवर अभियन्ता जिलाधिकारी की कार्यवाही की जद में आ गए हैं। बड़ी कार्यवाही करते हुए जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही ने ग्रामपंचायत सीहागांव विकासखण्ड झंझरी, ग्राम पंचायत सिंगहाचन्दा विकासखण्ड तरबगंज तथा ग्राम पंचायत खिरईखिरवा विकासखण्ड झंझरी के

गोंडा:- सरकारी धन का गबन कर भ्रष्टचार करने वाले तीन निवर्तमान ग्राम प्रधानों व एडीओ पंचायत, ग्राम विकास अधिकारी व अवर अभियन्ता जिलाधिकारी की कार्यवाही की जद में आ गए हैं। बड़ी कार्यवाही करते हुए जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही ने ग्रामपंचायत सीहागांव विकासखण्ड झंझरी, ग्राम पंचायत सिंगहाचन्दा विकासखण्ड तरबगंज तथा ग्राम पंचायत खिरईखिरवा विकासखण्ड झंझरी के निवर्तमान ग्राम प्रधानों सहित वहां पूर्व में तैनात रहे ग्राम विकास अधिकारी, एडीओ पंचायत तथा एई के विरूद्ध रिकबरी के आदेश जारी कर दिए हैं।
जिलाधिकारी ने बताया कि ग्राम पंचायत सीहागांव में निर्वतमान प्रधान श्रीमती प्रेमपती मिश्रा, तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी विष्णु प्रजापति, ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के अवर अभियन्ता अंगद सिंह कुशवाहा तथा सहायक विकास अधिकारी झंझरी हेमचन्द यादव द्वारा बिना कार्य कराए ही 03 लाख 37 हजार 455 रूपए का गबन किया गया। जांच रिपोर्ट में पाया गया कि सीहा गांव में निर्माणाधीन पंचायत भवन के निर्माण में लिंटर व बीम नहीं डाला गया। कुर्सी तल पर डीपीसी बीम में सरिया नहीं डाली गयी। भवन के मीटिंग हाल एवं कमरों के अनुसार सरिया एवं मसाले का प्रयोग नहीं किया गया। जबकि पंचायत भवन के निर्माण के मद में 07 लाख 07 हजार 176 रुपए का भुगतान कर दिया गया। जांच कराने पर कराए गए कार्य की कुल लागत मात्र 03 लाख 69 हजार 702 रूपए पाई। इस प्रकार पूर्व ग्राम प्रधान व अधिकारियों ने मिलकर 3 लाख 37 हजार 455 रुपए के सरकारी धन का गबन किया। जिलाधिकारी ने निवर्तमान ग्राम प्रधान श्रीमती प्रेमपती मिश्रा से 84363 रूपए, तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी विष्णु प्रजापति से 84363 रूपए, अवर अभियन्ता ग्रामीण अभियंत्रण विभाग अंगद सिंह कुशवाहा से 84363 रूपए तथा सहायक विकास अधिकारी झंझरी हेमचन्द यादव से 84363 रूपए की वसूली के आदेश दिए हैं।
इसी प्रकार ग्राम पंचायत सिंगहाचन्दा विकासखण्ड झंझरी के निवर्तमान ग्राम प्रधान रामधन, ग्राम विकास अधिकारी अभिषेक विश्वकर्मा, अवर अभियन्ता लघु सिंचाई गोपाल द्वारा 01 लाख 88 हजार 25 रूपए के सरकारी धन का गबन किया। अस ग्राम पंचायत में भी पंचायत भवन का निर्माण मानक अनुरूप न कराकर 10 लाख 38 हजार 25 रूपए व्यय कर दिए गए जबकि जांच कराने पर उक्त पंचायत की निर्माण लागत साढ़े आठ लाख ही पाई गई। जिलाधिकारी ने निवर्तमान ग्राम प्रधान सहित ग्राम विकास अधिकारी व अवर अभियन्ता से समानुपातिक रूप से 62 हजार 675 रूपए वसूलने के आदेश दिए हैं।
ग्राम पंचायत खिरई खिरवा विकासखण्ड झंझरी के निवर्तमान ग्राम प्रधान धनीराम द्वारा तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी विष्णु प्रजापति, अवर अभियन्ता अंगद सिंह कुशवाहा तथा सहायक विकास अधिकारी झंझरी हेमचंद यादव के साथ मिलकर 02 लाख 98 हजार 450 रुपए का गबन किया गया। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत में बन रहे पंचायत भवन में बिना नींव खुदाई के ही कार्य शुरू करा दिया गया। नींव की चिनाई का कार्य नहीं कराया गया तथा बीम भी नहीं डाली गई जबकि कार्य के सापेक्ष 03 लाख 93 हजार 450 रूपए का भुगतान कर दिया गया। जांच में कराए गए कार्य की कुल लागत मात्र 95 हजार रूपए ही पाई गई। डीएम ने इस मामले में निवर्तमान ग्राम प्रधान धनीराम सहित तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी विष्णु प्रजापति, अवर अभियन्ता अंगद सिंह कुशवाहा तथा सहायक विकास अधिकारी झंझरी हेमचंद यादव से समानुपातिक रूप से 74 हजार 612 रुपए वसूली के आदेश जारी कर दिए हैं।

रिपोर्ट राहुल तिवारी

Related Posts

Follow Us