भारत नेपाल सीमा पैदल आवागमन से दोनों देशों के नागरिकों हो रही है समस्या

भारत नेपाल सीमा पैदल आवागमन से दोनों देशों के नागरिकों हो रही है समस्या

दोनों देशों में रोटी बेटी का है संबंध रूपईडीहा बहराइच । भारत नेपाल सीमा क्षेत्र रूपईडीहा एसएसबी चेकपोस्ट से आवागमन करने वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है । प्रतिदिन हजारों की संख्या में आवागमन करने वाले लोग भारी भरकम सामान लादकर प्रवेश करने पर विवश है । विगत लगभग 2

दोनों देशों में रोटी बेटी का है संबंध

रूपईडीहा बहराइच । भारत नेपाल सीमा क्षेत्र रूपईडीहा एसएसबी चेकपोस्ट से आवागमन करने वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है । प्रतिदिन हजारों की संख्या में आवागमन करने वाले लोग भारी भरकम सामान लादकर प्रवेश करने पर विवश है । विगत लगभग 2 सालों से सवारी साधन नहीं चलने दिया जा रहा है जिसकी वजह से लोग पैदल आवागमन कर रहे है । दोनों देशों में कोरोना महामारी का प्रकोप कम हुआ है दोनों तरफ दुकानें भी खुल रही हैं और परिस्थितियां पूरी तरह से सामान्य दिखाई दे रही हैं उसके बाद भी सवारी साधन नहीं चलना दुर्भाग्यपूर्ण है । लोगों का कहना है कि आंख का इलाज कराने के लिए प्रतिदिन दर्जनों भारतीय नेपाल के अंदर पैदल तो चले जाते हैं लेकिन उधर से ऑपरेशन करवा कर सवारी साधन नहीं चलने की वजह से पैदल चलने को विवश रहते हैं । वही भारत में काम करने वाले कामगार भारी-भरकम सामानों को लाद कर भारतीय सीमा में प्रवेश करते हुए देखे जा रहे हैं । स्थानीय लोगों का कहना है कि एसएसबी वीओपी पर ही चेक पोस्ट बना दिया गया है जिसकी वजह से लगभग 200 मीटर पैदल लोगों को चलना पड़ता है अगर नेपाल की तर्ज पर सीमा के नजदीक नो मैंस लैंड एरिया के पास चेक पोस्ट बना दिया जाए तो सवारी साधन आसानी से बॉर्डर के समीप तक पहुंच जाएगा और लोगों को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा । लोगों ने मांग कि है कि सीमा तक सवारी साधन को चलने दिया जाए या तो एसएसबी वीओपी से चेक पोस्ट को शिफ्ट कर बॉर्डर के समीप किया जाए जिससे भारत नेपाल सीमावर्ती क्षेत्र में आवागमन सुगम हो सके । दोनों देशों में रोटी और बेटी के संबंध है यह संबंध काफी पुरातन समय से है धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री रामचंद्र जी का भी विवाह जनकपुर में हुआ था जो कि नेपाल में है इससे बड़ा रोटी बेटी का संबंध और क्या होगा इसे आसान बनाने के लिए सीमा पर निर्बाध रूप से बिना कष्ट पाए आवागमन करने की मांग स्थानीय लोगों ने की है।

रिपोर्ट रईस

Also Read पुलिस भर्ती परीक्षा : अव्यवस्थाओं से परेशान नजर आये अभ्यार्थी, 5 हजार से अधिक ने छोड़ी परीक्षा

Related Posts

Follow Us