कोरोना महामारी के चलते फीका रहा मोहर्रम का त्यौहार नही हुआ ताजियों का मिलाप

कोरोना महामारी के चलते फीका रहा मोहर्रम का त्यौहार नही हुआ ताजियों का मिलाप

जालौन(उत्तर प्रदेश)::- जनपद जालौन के अजीतापुर गांव में प्रतिवर्ष हर्षोल्लास से मनाया जाता था मोहर्रम का त्यौहार। जिले में ताजियों को लेकर सुर्खियों में रहता था अजीतापुर गांव जहां पर निकाले जाते थे ऊंचे ऊंचे ताजिए। लेकिन कोविड जैसी महामारी ने त्यौहार के रंग फीके कर दिए। जिससे वह रौनक दिखाई नहीं दी जो प्रतिवर्ष

जालौन(उत्तर प्रदेश)::- जनपद जालौन के अजीतापुर गांव में प्रतिवर्ष हर्षोल्लास से मनाया जाता था मोहर्रम का त्यौहार। जिले में ताजियों को लेकर सुर्खियों में रहता था अजीतापुर गांव जहां पर निकाले जाते थे ऊंचे ऊंचे ताजिए। लेकिन कोविड जैसी महामारी ने त्यौहार के रंग फीके कर दिए। जिससे वह रौनक दिखाई नहीं दी जो प्रतिवर्ष होती थी । लोग दूर-दूर से ताजियों को देखने आते थे।

हर वर्ष अजीतापुर में सेकड़ो फिट ऊंचे बनाये जाते थे ताजिया फिर रात्रि के समय दोनों ताजियों का होता था मिलाप । लेकिन आज की बात करे तो ताजिया तो बनाये गए है लेकिन सरकार के प्रोटोकॉल निर्देशो की वजह से ना तो ताजियों का मिलाप हुआ और ना ही वह रौनक दिखाई दी जो पिछले कई वर्षों में होती थी। सरकार द्वारा जो दिशा निर्देश दिए गए है उनका पालन करते दिखाई दिए लोग । जालौन के पुलिस अधीक्षक रवि कुमार के दिशा निर्देशों में मोहर्रम के दिन पुलिस विभाग भी रहा सतर्क।

रिपोर्ट : पुष्पेंद्र सिंह

Also Read IIT Kanpur में आयोजित हुई पुष्प प्रदर्शनी

Related Posts

Follow Us