घटिया निर्माण कर ठेकेदार ने निकाली करोड़ो की रकम नहीं हो सकी कार्रवाई

घटिया निर्माण कर ठेकेदार ने निकाली करोड़ो की रकम नहीं हो सकी कार्रवाई

कौशाम्बी :- जिले में सरकारी भवन के निर्माण में बड़ी धांधली हो रही है अधिकारी मीटिंग में कार्यवाही की झूठी बात करते हैं लेकिन जमीनी हकीकत पर धांधली करने वाली कार्यदाई संस्थाओं पर ठोस कार्यवाही नहीं हो पाती है जिससे भवन निर्माण में लगे कार्यदाई संस्थाओं के जिम्मेदारों के धांधली भ्रष्टाचार पर रोक नहीं लग

कौशाम्बी :- जिले में सरकारी भवन के निर्माण में बड़ी धांधली हो रही है अधिकारी मीटिंग में कार्यवाही की झूठी बात करते हैं लेकिन जमीनी हकीकत पर धांधली करने वाली कार्यदाई संस्थाओं पर ठोस कार्यवाही नहीं हो पाती है जिससे भवन निर्माण में लगे कार्यदाई संस्थाओं के जिम्मेदारों के धांधली भ्रष्टाचार पर रोक नहीं लग रही है।

इसी तरह का ताजा मामला मूरतगंज विकासखंड के पंसौर गांव का सामने आया जहां वर्ष 2014 में राजकीय बालिका विद्यालय हाईस्कूल का निर्माण कराए जाने के लिए तीन करोड़ दो लाख रुपए की सरकारी धनराशि कारदायी संस्था को सरकार ने अवमुक्त कर दिया।

ठेकेदार ने राजकीय बालिका विद्यालय हाईस्कूल पंसौर के भवन को घटिया सामग्री से निर्मित कर दिया लेकिन इसी बीच भवन के घटिया निर्माण कराए जाने को लेकर विभाग में खींचतान शुरू हो गई और निर्माण में घटिया क्वालिटी का आरोप लगाकर भवन को विभाग ने हैंड ओवर नहीं किया निर्माण के 7 वर्ष बाद भी यह भवन कार्यदाई संस्था के अधिकार में खड़ा है जिससे यह भवन आज भी बेकार हालत में पड़ा है।

Also Read Kanpur Metro Update : बड़ा चौराहा से नवीन मार्केट स्टेशन के बीच आरंभ हुआ ट्रैक निर्माण का कार्य

प्राइमरी स्कूल परिसर पंसौर में राजकीय बालिका विद्यालय हाईस्कूल का संचालन हो रहा है जहां मुसीबत से कक्षा 9 वीं कक्षा 10 के छात्र-छात्राओं की पढ़ाई शिक्षक कर रहे हैं शिक्षा वाले कमरे में बुक स्टोर और आफिस का संचालन हो रहा है जिससे छात्रों की पढ़ाई बाधित हो रही है राजकीय बालिका विद्यालय हाई स्कूल पंसौर के निर्माण में धांधली के मामले में अभी तक कार्यदाई संस्था के कारनामे पर बड़े-बड़े भाषण देने वाले अधिकारियों द्वारा कार्यवाही नहीं की गई है जो पूरी व्यवस्था पर बड़ा सवाल है।

आखिर सरकार द्वारा अवमुक्त तीन करोड़ दो लाख रुपए की सरकारी धन राशि में हेराफेरी कर विद्यालय का जर्जर भवन खड़ा करने वाले ठेकेदार पर आला अधिकारी क्यों मेहरबान है यह बड़ी जांच का विषय है और इस विद्यालय के भवन निर्माण में धांधली कि यदि शासन स्तर से जांच हुई तो जहां भवन निर्माण करने वाली कार्यदाई संस्था के जिम्मेदारों पर मुकदमा दर्ज हो सकता है।

वही सरकारी धन में हेराफेरी कर राजकीय बालिका विद्यालय हाई स्कूल पंसौर का निर्माण करने वाले ठेकेदार के कारनामों पर सरकारी रकम की वसूली भी हो सकती है इतना ही नहीं भवन निर्माण में धांधली करने वाले कार्यदाई संस्था और ठेकेदारों की गिरफ्तारी भी असंभव नहीं मानी जा रही लेकिन तमाम गुनाह के बाद दोषी जनों पर सात वर्ष बाद भी कार्रवाई नहीं हो सकी है क्षेत्र के लोगों ने योगी सरकार का ध्यान आकृष्ट करते हुए विद्यालय भवन निर्माण करने वाली कार्यदाई संस्था के ठेकेदार और अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है।

रिपोर्ट श्रीकांत यादव

Related Posts

Follow Us