ग्रामीणों के लिए सड़क बनी आफत आवागमन में बढ़ रही परेशानी

ग्रामीणों के लिए सड़क बनी आफत आवागमन में बढ़ रही परेशानी

राजगढ़ : जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर चाटू खेड़ा से कोलू खेड़ा मार्ग जो कि मोहनपुरा परियोजना के बाद ब्यावरा जाने का रूट पूर्णता बंद हो गया है लेकिन कोलू खेड़ा के पास नेवज नदी का पानी भर जाने के कारण इधर का एरिया चाटूखेड़ा से ही साप्ताहिक हाट बाजार से अपने रोजमर्रा

राजगढ़ : जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर चाटू खेड़ा से कोलू खेड़ा मार्ग जो कि मोहनपुरा परियोजना के बाद ब्यावरा जाने का रूट पूर्णता बंद हो गया है लेकिन कोलू खेड़ा के पास नेवज नदी का पानी भर जाने के कारण इधर का एरिया चाटूखेड़ा से ही साप्ताहिक हाट बाजार से अपने रोजमर्रा और जरूरतमंद सामान का आयात निर्यात करने यहां पहुंचते हैं। चाटू खेड़ा साप्ताहिक हाट बाजार में मुरारिया खानपुरा भूतिया, सीरौंजी, नाहींहेड़ा बाईहेड़ा, डूंगरपुर कोलू खेड़ा, शहपुरिया,लाखिया, नरी, सहित कहीं गांव हैं जिनको यहां सीधे रूट से चाटू खेड़ा आवागमन होता रहता है।

ग्रामीणों ने कई बार प्रशासनिक अधिकारियों के साथ-साथ क्षेत्र जनपद सदस्य ओम प्रकाश गुप्ता को भी अवगत कराया लेकिन अभी प्रशासन और गैर जिम्मेदार अधिकारियों की लेटलतीफी के कारण ग्रामीणों को भारी मशक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

Also Read नहर मे मिला  महिला का शव ,अभी तक  नही हो सकी शिनाख्त 

प्रसव के दौरान होती है लोगों को बड़ी परेशानी जननी एक्सप्रेस वाहन का भी नहीं मिलता है लाभ
चाटू खेड़ा से कोलू खेड़ा के बीच में बनी हुई सड़क को देखकर ऐसा लगता है कि सड़क में गड्ढा है या गड्ढे में सड़क है लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं होने के कारण अगर किसी महिला को प्रसव पीड़ा होती है तो ग्रामीण या तो उन्हें खुजनेर लेकर पहुंचते हैं या फिर राजगढ़ ऐसे में उन्हें इस ओवर खबर रास्ते से गुजरने में समय तो अधिक लगता है लेकिन भारी मशक्कत का सामना करना पड़ता है।

आपको बता दे कि महिलाओं को डिलीवरी के लिए जननी एक्सप्रेस भी इस रोड के नाम पर उपलब्ध नहीं होती है उदाहरण के तौर पर मुरारिया की एक महिला प्रसव पीड़ा हुई इस दौरान 108 पर कॉल किया गया तो बाद में डिलीवरी के लिए आने वाले इस गाड़ी वाले ने मना कर दिया, जननी एक्सप्रेस के ड्राइवर का कहना था कि में मुरारिया नहीं आऊंगा।ग्रामीण को वाहन न मिलने की दशा में इंतजार करते करते उस महिला ने गांव में ही पुत्र को जन्म दिया।

वही जानकारी है कि लोक निर्माण विभाग नहीं इस सड़क का स्टीमेट भोपाल भेज दिया है जहां से अभी तक स्वीकृत नहीं हुआ है। वही विभाग के अधिकारी और जिम्मेदार अधिकारी बताते हैं कि अभी सरकार के पास राशि नहीं है। वही जनपद सदस्य ओम प्रकाश गुप्ता का कहना है कि अगर प्रशासन ने सड़क समस्या को गंभीरता से नहीं लिया तो आने वाले दिनों में हम हड़ताल और धरना प्रदर्शन करते हुए मामले के समाधान हेतु प्रशासन को जगाने के लिए कड़ा रुख अपनाएंगे।

ओम प्रकाश गुप्ता क्षेत्रीय जनपद सदस्य चाटू खेड़ा

कहना है कि क्षेत्र की जनता लगातार सड़क समस्या से जूझ रही है। ग्रामीण मुझसे भी सड़क बनाने को लेकर मांग करते हैं वही मेरे द्वारा संबंधित अधिकारियों से चर्चा कर अवगत कराया गया लेकिन अभी तक प्रशासन का ध्यान इस समस्या पर गंभीर नहीं दिख रहा है ऐसे में धरना प्रदर्शन करने का मन बना रहे हैं।


बापू सिंह तंवर विधायक राजगढ़
कहना है कि मामला मेरे संज्ञान में है इसी को लेकर मेरे द्वारा भोपाल तक वरिष्ठ अधिकारियों बताया गया था। जहां तक मुझे जानकारी है इसमें अभी तकनीकी स्वीकृति हो गई है।

नीरज कुमार सिंह जिला कलेक्टर राजगढ़

इनका कहना है कि ग्रामीणों को सड़क की समस्या को लेकर परेशानी हो रही है यहां मामला संज्ञान में है मैं दिखवाता हूं।

रिपोर्ट : ठाकुर हरपाल सिंह परमार

Related Posts

Follow Us