भाद्रपद माह की पहली सवारी राजसी ठाट-बाट के साथ निकली

भाद्रपद माह की पहली सवारी राजसी ठाट-बाट के साथ निकली

उज्जैन । शिव की नगरी हुई शिवमय भगवान महाकालेश्वर भगवान की पॉचवी सवारी में चारों ओर भगवान शिव के गुणगान हो रहे थे । सवारी के आगे भक्त ढोल, शहनाई, डमरू, झांझ आदि वाद्य बजाते हुए शिव के गुणगान करते हुए चल रहे थे। भाद्रपद माह के पहले सोमवार को भगवान चन्द्रमौलीश्वर पालकी में व

उज्जैन । शिव की नगरी हुई शिवमय भगवान महाकालेश्वर भगवान की पॉचवी सवारी में चारों ओर भगवान शिव के गुणगान हो रहे थे । सवारी के आगे भक्त ढोल, शहनाई, डमरू, झांझ आदि वाद्य बजाते हुए शिव के गुणगान करते हुए चल रहे थे। भाद्रपद माह के पहले सोमवार को भगवान चन्द्रमौलीश्वर पालकी में व भगवान मनमहेश हाथी पर सवार होकर अपनी प्रजा का हाल जानने नगर भ्रमण पर निकले।

सवारी निकलने के पूर्व मंदिर के सभामंडप में भगवान चन्द्रमौलीश्वर का विधिवत पूजन-अर्चन किया गया। पूजन मुख्य पुजारी पं. घनश्याम शर्मा ने संपन्न ‍करवाया। पूजन महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं कलेक्टर आशीष सिंह एवं पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार ने किया। पूजन के पश्चात सभी गणमान्यो ने पालकी को नगर भ्रमण की ओर रवाना किया। इस दौरान मंदिर समिति प्रशासक एवं अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी नरेन्द्र सुर्यवंशी, महंत विनीत गिरी, मंदिर समिति के सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल, प्रतीक द्विवेदी, सहायक प्रशासनिक अधिकारी आर.के.तिवारी आदि उपस्थित थे।
जैसे ही पालकी मुख्य द्वार पर पहुची होमगार्ड, पुलिस एवं एस.ए.एफ. के जवानों द्वारा भगवान को सलामी दी गई।

रिपोर्ट – आसिफ खान

Follow Us