बाबा महाकाल ने चन्द्रमौलेश्वर स्वरूप में भक्तों को दिए दर्शन

बाबा महाकाल ने चन्द्रमौलेश्वर स्वरूप में भक्तों को दिए दर्शन

उज्जैन । सावन के दूसरे सोमवार को शिव की नगरी शिवमय हुई। भगवान बाबा महाकालेश्वर भगवान की दूसरी सवारी में चारों ओर भगवान शिव के गुणगान हो रहे हैं। सवारी के आगे भक्त ढोल, शहनाई, डमरू, झांझ आदि वाद्य बजाते हुए शिव के गुणगान करते हुए चल रहे है श्रावण माह के दूसरे सोमवार को

उज्जैन । सावन के दूसरे सोमवार को शिव की नगरी शिवमय हुई। भगवान बाबा महाकालेश्वर भगवान की दूसरी सवारी में चारों ओर भगवान शिव के गुणगान हो रहे हैं। सवारी के आगे भक्त ढोल, शहनाई, डमरू, झांझ आदि वाद्य बजाते हुए शिव के गुणगान करते हुए चल रहे है श्रावण माह के दूसरे सोमवार को भगवान चन्द्रमौलीश्वर पालकी में व मनमहेश हाथी पर सवार होकर अपनी प्रजा का हॉल जानने नगर भ्रमण पर निकले।

सवारी निकलने के पूर्व मंदिर के सभामंडप में भगवान श्री चन्द्रमौलीश्वर का विधिवत पूजन-अर्चन किया गया। पूजन मुख्य पुजारी पं. घनश्याम शर्मा ने संपन्न ‍करवाया। पूजन श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं कलेक्टर आशीष सिंह सपरिवार ने किया। इस दौरान पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार, प्रशासक नरेन्द्र सूर्यवंशी, महंत विनीत गिरी आदि उपस्थित थे। पूजन के पश्चात सभी गणमान्यो ने पालकी को कंधा देकर नगर भ्रमण की ओर रवाना किया।

Also Read तेज रफ्तार बाइक बाइक में भिड़ंत एक युवक की मौत 3 जख्मी किए गए रेफर।

सवारी जैसे ही मुख्य द्वार पर पहुंची वहां सशस्त्र पुलिस बल के जवानों द्वारा भगवान को सलामी (गॉड ऑफ ऑनर) दी गई और उसके पश्चात सवारी बडा गणेश मंदिर के सामने से होते हुए हरसिद्धि मंदिर के समीप से नृसिंह घाट रोड पर सिद्धआश्रम के सामने से होते हुए क्षिप्रातट रामघाट पहुंचेगी। रामघाट पर मां क्षिप्रा के जल से बाबा श्री महाकाल के अभिषेक-पूजन के पश्चात सवारी रामानुजकोट, हरसिद्धी पाल से हरसिद्धी मंदिर के सामने मॉ हरसिद्धी एवं बाबा महाकाल की आरती के पश्चात सवारी बडा गणेश मंदिर के सामने से होते हुए श्री महाकालेश्वर मंदिर वापस आयी ।

सवारी मार्ग रंगबिरंगी पताकाओं एवं छत्रियों एवं कारपेट से सुशोभित हो रहा था। सवारी के क्रम में उद्घोषक वाहन, तोपची, भगवान बाबा महाकाल का ध्वज, घुड़सवार, विशेष सशस्त्र बल, पुलिस बैण्ड, नगर सेना, महाकाल के पुजारी-पुरोहित, ढोलवादक, झांझवादक, चोपदार, चांदी की झाडुवाहक, अन्य आवश्यक व्यवस्था में लगने वाले अधिकारी-कर्मचारी सीमित संख्या में थें।

  • रिपोर्ट :- आसिफ खान उज्जैन

Follow Us