नगर छापीहेड़ा में दो दिन की बारिश के चलते जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त नदियां और नाले उफान पर

नगर छापीहेड़ा में दो दिन की बारिश के चलते जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त नदियां और नाले उफान पर

राजगढ़ (मध्य प्रदेश):- खिलचीपुर तहसील के नगर छापीहेड़ा मे आपको बता दें कि नगर छापीहेड़ा से ही निकली छापी नदी जोकि नगर से बाहर निकलने के बाद काफी बड़ी नदी है छापी नदी के कई जगह पर बड़े बड़े डैम बंधे हुए हैं। राजस्थान के गेहूंखेड़ी गांव में छापी डैम बंधा हुआ है। आपको बता

राजगढ़ (मध्य प्रदेश):- खिलचीपुर तहसील के नगर छापीहेड़ा मे आपको बता दें कि नगर छापीहेड़ा से ही निकली छापी नदी जोकि नगर से बाहर निकलने के बाद काफी बड़ी नदी है छापी नदी के कई जगह पर बड़े बड़े डैम बंधे हुए हैं। राजस्थान के गेहूंखेड़ी गांव में छापी डैम बंधा हुआ है। आपको बता दें कि एक और जहां पानी के लिए आमजन कभी इंद्र देव को प्रसन्न करने के लिए पूजा कर रहे थे, तो कहीं गांव से बाहर खाना बना रहे थे। उसी के चलते दो दिन से लगातार तेज बारिश से जहां एक तरफ किसानों के चेहरे पर खुशी नजर आई है।
उसी के साथ साथ राजगढ़ जिले में नदी और नाले उफान पर आ गए, जिससे जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया देखा जाए तो राजगढ़ जिले के नगर के छापीहेड़ा में नगर के बीच से निकलने वाले नाले के रूप में छापी नदी इतनी उफान पर आई कि- कई लोगों के घरों में पानी भर गया। उसी के साथ नगर के वार्ड 14 में देखा जाए तो नालियों ने विकराल रूप लेते हुए घरों में बहना चालू कर दीया और लोगों के खाने रहने की व्यवस्था तक भंग हो गई। जिसमें छापीहेड़ा पुलिस थाना, न्यायालय टप्पा कार्यालय, नगर पंचायत, रामपुरिया बालाजी मंदिर, पाटीदार मोहल्ला, सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल, जलमग्न हो गया।
देखा जाए तो दो दिन की लगातार बारिश ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया।
उसी के साथ कालीसिंध नदी, पर बने राजगढ़ जिले के कुंडालिया परियोजना डेम, में जल स्तर को बढ़ते देख 11 गेट खोलने की स्थिति बन गई।

रिपोर्ट कमल चौहान

Also Read बिजली की चपेट में आने से एक व्यक्ति बुरी तरह जख्मी अस्पताल में चल रहा इलाज।

Follow Us