15 सितंबर से कालेज शुरू – मंत्री डॉ.यादव

15 सितंबर से कालेज शुरू – मंत्री डॉ.यादव

भोपाल/उज्जैन । एजुकेशन मिनिस्टर डॉ.मोहन यादव विक्रम विश्वविद्यालय के शलाका दीर्घा में मीडिया से रूबरू हुए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि नवीन शैक्षणिक सत्र विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों में भौतिक रूप से 15 सितम्बर से 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ कक्षाओं का संचालन प्रारम्भ किया जायेगा। संस्थानों द्वारा ऑफलाइन एवं ऑनलाइन कक्षाओं के लिये अलग-अलग

भोपाल/उज्जैन । एजुकेशन मिनिस्टर डॉ.मोहन यादव विक्रम विश्वविद्यालय के शलाका दीर्घा में मीडिया से रूबरू हुए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि नवीन शैक्षणिक सत्र विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों में भौतिक रूप से 15 सितम्बर से 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ कक्षाओं का संचालन प्रारम्भ किया जायेगा। संस्थानों द्वारा ऑफलाइन एवं ऑनलाइन कक्षाओं के लिये अलग-अलग समय-सारण का निर्माण किया जायेगा। विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों में छात्रावास भी प्रारम्भ किये जायेंगे। छात्र-छात्राओं की आवासीय व्यवस्था संस्था प्रमुख द्वारा कोविड-19 के निर्देशों के परिपालन में सुनिश्चित की जायेगी। छात्रावास अधीक्षक द्वारा छात्रावासों में भोजन व्यवस्था के लिये कोविड-19 के परिपालन में स्वच्छता एवं शारीरिक दूरी का पालन भी सुनिश्चित किया जायेगा।
उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने कहा कि शैक्षणिक संस्थाओं में विद्यार्थियों के अध्ययन के लिये ग्रंथालय भी आरम्भ होंगे। विद्यार्थियों तथा विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों के समस्त शैक्षणिक स्टाफ के लिये वेक्सीनेशन करवाना अनिवार्य होगा। विश्वविद्यालय स्तर पर कुलसचिव तथा महाविद्यालय स्तर पर सम्बन्धित क्षेत्रीय अतिरिक्त संचालक द्वारा निरन्तर मॉनीटरिंग की जायेगी और इसका प्रतिवेदन प्रत्येक सोमवार को आयुक्त उच्च शिक्षा विभाग को प्रेषित किया जायेगा। विश्वविद्यालय और महाविद्यालय में कोविड-19 के सन्दर्भ में केन्द्र शासन, राज्य शासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा समय-समय पर जारी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने हेतु भी सम्बन्धितों को कहा गया है।
इस दौरान कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय, कुलसचिव प्रो.प्रशांत पौराणिक सहित प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन प्रो.शैलेंद्र कुमार शर्मा ने किया। अन्त में आभार कुलपति प्रो.पाण्डेय ने माना। प्रदेश की उच्च शिक्षा में एक और नया आयाम जुड़ा
विक्रम विश्वविद्यालय में प्रारम्भ हुए 130 से अधिक नवीन पाठ्यक्रम शुरू हुए। शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने बताया कि प्रदेश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के साथ एक नई शुरुआत हो रही है। प्रदेश में अब परंपरागत विश्वविद्यालयों में कृषि, हॉर्टिकल्चर जैसे संकाय प्रारंभ होने से उच्च शिक्षा में एक नया आयाम जुड़ गया है। इन विश्वविद्यालयों में कृषि-हॉर्टिकल्चर, फॉरेस्ट्री जैसे मूलभूत पाठ्यक्रमों को एक विषय के रूप में पढ़ाया जाएगा। इससे अंतर्विषयक ज्ञान को बढ़ावा मिलेगा और ग्रामीण पृष्ठभूमि के विद्यार्थी भी इस ओर आकर्षित होंगे।
डॉ.यादव ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि लंबे प्रयासों के बाद परंपरागत विश्वविद्यालयों में कृषि संकाय प्रारंभ किए जा रहे हैं। अभी तक राज्य शासन के स्तर पर प्रारंभ किए गए कृषि महाविद्यालय और कृषि विश्वविद्यालय में ही कृषि, हॉर्टिकल्चर से संबंधित पढ़ाई होती आई है। यह निर्णय निश्चित रूप से मध्यप्रदेश जैसे कृषि आधारित व्यवस्था वाले राज्य में उच्च शिक्षा को ग्रासरूट से जोड़ेगा। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि उज्जैन स्थित विक्रम विश्वविद्यालय इस वर्ष से कृषि संकाय अंतर्गत बीएससी (ऑनर्स) एग्रीकल्चर, बीएससी (ऑनर्स) हॉर्टिकल्चर, बीएससी (ऑनर्स) फॉरेस्ट्री, एमएससी एग्रीकल्चर, एमएससी हॉर्टिकल्चर और एमएससी फॉरेस्ट्री के पाठ्यक्रम प्रारंभ कर रहा है। इससे संबंधित अध्यादेश परिनियम राज्यपाल मंगुभाई पटेल की अध्यक्षता में समन्वय समिति ने पारित किए हैं। इन प्रावधानों को सभी परंपरागत विश्वविद्यालयों में समान रूप से लागू किया जा रहा है। पारंपरिक विश्वविद्यालय अपने यहाँ कृषि, हॉर्टिकल्चर से संबंधित पाठ्यक्रम प्रारंभ कर सकते हैं। विक्रम विश्वविद्यालय में कृषि से संबंधित महत्वपूर्ण पाठ्यक्रम प्रारंभ किए जा रहे हैं। विश्वविद्यालय में 180 से अधिक यूजी, पीजी, डिप्लोमा एवं सर्टिफिकेट पाठ्यक्रमों में रिक्त सीटों पर विद्यार्थी 14 सितंबर तक एमपी ऑनलाइन के माध्यम से प्रवेश ले सकते हैं। विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आए अब तक दो हजार से अधिक आवेदन-पत्र प्राप्त हो चुके हैं। विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में नवीन शिक्षा सत्र 2021-22 में 130 से अधिक नवीन पाठ्यक्रम सहित 180 से अधिक पाठ्यक्रम हो गए हैं। विश्वविद्यालय की विभिन्न अध्ययनशालाओं एवं संस्थानों में संचालित स्नातक, स्नातकोत्तर, डिप्लोमा एवं प्रमाण पत्र पाठ्यक्रमों में मेरिट के आधार पर प्रवेश की प्रक्रिया निरन्तर है। इस वर्ष विश्वविद्यालय में रोजगारपरक एवं कौशल संवर्धन से जुड़े 130 से अधिक पाठ्यक्रम शुरू किए गए हैं। विद्यार्थीगण यहाँ संचालित कुल 180 से अधिक पाठ्यक्रमों में से अपनी रुचि एवं अध्ययन क्षेत्र के अनुसार किसी पाठ्यक्रम में प्रवेश ले सकते हैं। इच्छुक विद्यार्थी विश्वविद्यालय की वेबसाइट से जानकारी प्राप्त करने के साथ संबंधित अध्ययनशाला एवं संस्थान में संपर्क कर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। प्रवेश हेतु एमपी ऑनलाइन के माध्यम से 14 सितंबर तक आवेदन किए जा सकते हैं। विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए अब तक दो हजार से अधिक आवेदन आ चुके हैं। ये पाठ्यक्रम इंजीनियरिंग, शारीरिक शिक्षा, कृषि, कला, समाज विज्ञान, विधि, वाणिज्य, विज्ञान, जीव विज्ञान, कंप्यूटर विज्ञान, व्यवसाय प्रबंधन, नॉन फॉर्मल एजुकेशन, फॉरेंसिक साइंस, फूड टेक्नोलॉजी आदि संकायों एवं विषय क्षेत्रों से जुड़े हैं।
विश्वविद्यालय के संस्थानों में एमबीए, एमसीए एवं बीटेक – सिविल, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स, मैकेनिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश डीटीई, भोपाल के माध्यम से होगा। इस वर्ष स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (एसओईटी) में प्रारंभ किए गए चार एम टेक पाठ्यक्रमों स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग, थर्मल इंजीनियरिंग, पावर सिस्टम ऑटोमेशन एवं डिजिटल कम्युनिकेशन में मेरिट के आधार पर प्रवेश दिया जा रहा है।
विक्रम विश्वविद्यालय की अध्ययनशालाओं एवं संस्थानों में संचालित विभिन्न पाठ्यक्रमों में विश्वस्तरीय मानकों के अनुरूप सीबीसीएस (च्वाइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम) हाल के वर्षों में लागू किया गया है। सीबीसीएस पद्धति में विद्यार्थियों को अपने विषय क्षेत्र के अध्ययन के साथ ही अपनी रुचि और व्यावसायिक दक्षता अर्जित करने की दृष्टि से अन्य विषयों के चयन का विकल्प प्राप्त हो रहा है।
सीबीसीएस पद्धति में मुख्य विषय के साथ स्किल बेस्ड एवं वोकेशनल कोर्स भी समाहित किए गए गए हैं। यूजीसी के नवीन मानदंडों के अनुरूप प्रत्येक कोर्स के पाठ्यक्रम को अलग-अलग क्रेडिट्स में तैयार किया गया है। सीबीसीएस के तहत विद्यार्थियों को विभिन्न सेमेस्टरों में अपनी रुचि के अनुरूप प्रश्नपत्र पढ़ने की छूट मिल रही है। पाठ्यक्रम में नई विषय सामग्री भी शामिल की गई हैं, जिससे विद्यार्थीगण परम्परागत पाठ्यक्रमों में हाल के वर्षों में वैश्विक स्तर पर हुए बदलावों से भी जुड़ रहे हैं। इस पद्धति में विद्यार्थियों के सतत परीक्षण, विकल्प आधारित पाठ्यक्रम, कॉमन ग्रेडिंग सिस्टम, व्यावसायिक क्षमता एवं कौशल आधारित पाठ्यक्रम जैसी अनेक विशेषताएँ हैं।
एजुकेशन मिनिस्टर डॉ मोहन यादव आगे बताया कि प्रदेश के 117 शासकीय महाविद्यालयों में 459 डिप्लोमा एवं सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम स्वीकृत किए गए हैं। विद्यार्थियों को रोजगार मूलक शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से अलग-अलग विषयों में अतिरिक्त सर्टिफिकेट और डिप्लोमा पाठ्यक्रम प्रारंभ किए जा रहे हैं। विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में सत्र 2021-22 से स्नातकोत्तर के 50, स्नातक के 23, पीजी डिप्लोमा के 30, डिप्लोमा के 34 और सर्टिफिकेट के 44, नवीन पाठ्यक्रम प्रारंभ किए जा रहे हैं। नवीन सत्र में 130 से अधिक पाठ्यक्रम प्रारंभ किए जा रहे हैं।
विक्रम विश्वविद्यालय के नवीन सत्र 2021-22 में स्नातकोत्तर के 19, स्नातक के 13, पीजी डिप्लोमा के 30, डिप्लोमा के 23 एवं सर्टिफिकेट के 43 कुल 130 से अधिक नवीन पाठ्यक्रम प्रारम्भ किये गए है।

रिपोर्ट – आसिफ खान

Also Read पुलिस ने सुलझाई मैनेजर हत्याकांड की गुत्थी , एक शातिर गिरफ्तार , दो की तलाश में जुटी

Related Posts

Follow Us