चीन ने नेपाल के राष्ट्रपति भवन को भी अपने जाल में फंसा लिया

चीन ने नेपाल के राष्ट्रपति भवन को भी अपने जाल में फंसा लिया

नई दिल्ली। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चाहते हैं कि केपी शर्मा ओली नेपाल के प्रधानमंत्री की कुर्सी पर जमे रहें। इसी लिए उन्होंने अपनी खूबसूरत राजदूत हाओ यांकी को राष्ट्रपति हाओ यांकी के पास मुलाकात के लिए भेजा। राष्ट्रपति विद्यादेबी भण्डारी से हाओ यांकी की मुलाकात के बाद नेपाल में सियासी तूफान उठा हुआ

नई दिल्ली। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चाहते हैं कि केपी शर्मा ओली नेपाल के प्रधानमंत्री की कुर्सी पर जमे रहें। इसी लिए उन्होंने अपनी खूबसूरत राजदूत हाओ यांकी को राष्ट्रपति हाओ यांकी के पास मुलाकात के लिए भेजा।

राष्ट्रपति विद्यादेबी भण्डारी से हाओ यांकी की मुलाकात के बाद नेपाल में सियासी तूफान उठा हुआ है। प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली से विपक्ष के साथ-साथ उनकी खुद की नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अंदर से ही इस्तीफे की मांग अपने चरम पर है। इस बारे में अब दूतावास ने यांकी का बचाव किया है और कहा है कि चीन नही चाहता कि एनसीपी में मुश्किल पैदा हो।

Also Read शादी की नियत से नाबालिक लड़के का अपहरण, आरोपी गिरफ्तार

चीन के दूतावास ने प्रवक्ता झान्ग सी ने काठमांडू पोस्ट को बताया है कि चीन नहीं चाहेगा कि नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी मुश्किल में हो और चाहता है कि नेता अपने मतभेद सुलझाकर एकजुटता से रहें। झान्ग ने कहा है, ‘दूतावास नेपाल के नेताओं से अच्छे संबंध रखता है और किसी भी वक्त पर आमहितों पर विचार साझा करने के लिए तैयार है।’ झान्ग ने कहा कि राजदूत और दूतावास सरकार, राजनीतिक दलों, थिंक-टैंक्स और नेपाल के हर क्षेत्र से अच्छे संबंध रखते हैं।

दरअसल, एक हफ्ते में हाओ ने राष्‍ट्रपति बिद्या भंडारी, नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के वरिष्‍ठ नेता माधव कुमार नेपाल, झालानाथ खनल से मुलाकात की है। बड़े नेताओं में वह ओली के धुर विरोध हो चुके पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ से नहीं मिली हैं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि दहल उनसे मिलने को तैयार नहीं हैं। गत 3 जून को चीनी राजदूत ने राष्‍ट्रपति बिद्या भंडारी से ‘शिष्‍टाचार’ मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद ही चीनी राजदूत और ज्‍यादा सवालों के घेरे में आ गईं।

यही नहीं नेपाली विदेश मंत्रालय ने भी कहा कि चीनी राजदूत के मामले में राष्‍ट्रपति राजनयिक आचार संहिता का उल्‍लंघन कर रही हैं। नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के आंतरिक सूत्रों ने बताया कि चीनी राजदूत पार्टी नेताओं एकजुट रहने के लिए कह रही हैं, क्‍योंकि पेइचिंग को यह डर सता रहा है कि नेपाल में राजनीतिक अस्थिरता पैदा हो सकती है। उधर, विदेश मामलों के जानकारों का कहना है कि चीनी राजदूत का मुलाकात करना सामान्‍य बात नहीं है।

बता दें कि नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अंदर ओली के विरोध में काफी वक्त से आवाजें उठ रही हैं और उनका इस्तीफा मांगा जा चुका है। पिछले दिनों ओली ने राष्ट्रपति भंडारी से मिलकर संसद का बजट सत्र तक रद्द करा दिया था और अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने से बच गए थे। अब पार्टी की मीटिंग का इंतजार किया जा रहा है और बीच के वक्त में दहल और ओली के बीच की खाई को पाटने की कोशिशें की जा रही हैं।

Follow Us