हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगाया गया खालिस्तानी झंडा, कुमार विश्वास ने याद दिलाई चेतावनी

हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगाया गया खालिस्तानी झंडा, कुमार विश्वास ने याद दिलाई चेतावनी

शिमला। पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार आने के बाद से प्रतिबंधित संगठन खालिस्तान की हिम्मत दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। हिमाचल प्रदेश की विधानसभा के गेट पर खालिस्तानी झंडा फहराये जाने के बाद से फिर बार खालिस्तान का जिन्न बाहर आ गया है। किसान आंदोलन के समय पर भी 26 जनवरी को लालकिले पर प्रतिबंधित झंडा फहराया गया था। वहीं दोबारा ऐसा होने पर फिर एक बार राजनीति में आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। 

कवि कुमार विश्वास ने याद दिलाई चेतावनी

आप के पूर्व नेता व कवि कुमार विश्वास ने पंजाब चुनाव के वक्त किये अपने ट्वीट को फिर एक बार दोहराया है। उन्होंने कहा कि देश के लोगों को मेरी चेतावनी याद रखनी चाहिए। कुमार विश्वास द्वारा किए गए ट्वीट पर लोगों ने भी अपने रिएक्शन दिए हैं।

कुमार विश्वास ने ट्वीट कर कहा कि मैंने पहले भी चेताया था, फिर कह रहा हूं। देश मेरी चेतावनी को याद रखे। मैंने पंजाब के वक्त कहा था लेकिन अब उसकी इस दूसरे देश पर नजर है। देश मेरी चेतावनी को याद रखे। 

केजरीवाल को बताया था खालिस्तानी समर्थक

पंजाब चुनाव के दौरान कुमार विश्वास ने दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल को लेकर कहा था कि वह अलगाववादियों के समर्थक हैं। इसके साथ उन्होंने दावा किया था कि उन्होंने केजरीवाल से पिछले चुनाव में कहा था कि अलगाववादी संगठन या खालिस्तानियों का साथ मत लो लेकिन केजरीवाल ने कहा था कि हो जाएगा, चिंता मत कर।

झंडा लहराने की धमकी दे चुका था पन्नू

इससे पहले सिख फॉर जस्टिस' की ओर से पन्नू ने 29 अप्रैल को शिमला में खालिस्तान का झंडा फहराने की चेतावनी दी थी। 26 मार्च को मुख्यमंत्री के नाम खत लिखकर व वीडियो संदेश जारी कर पन्नू ने हिमाचल में भिंडरावाले की फोटो और खालिस्तानी झंडे लगी गाड़ियों को रोकने पर ऐतराज जताया था। चिट्ठी में बताया गया है कि 29 अप्रैल को शिमला में झंडा फहराया जाएगा, जो 1966 तक पंजाब की राजधानी थी।

नजर नहीं आ रही पंजाब की फैंटम पुलिस

दुसरे राज्यों में जाकर आम आदमी पार्टी के विरोध में बोलने वालों को उठाने में माहिर पंजाब पुलिस खालिस्तान समर्थकों पर एक्शन लेने में नाकाम साबित हो रही है। गौरतलब है कि पंजाब में खालिस्तान के समर्थन में छिटपुट हिंसा होती रहती है, लेकिन पंजाब पुलिस ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाने में पूरी तरह फेल साबित हुई है। 

Follow Us