अन्नामलाई : बीजेपी का नया सुपरस्टार

अन्नामलाई : बीजेपी का नया सुपरस्टार

अब आप इसे बीजेपी की किस्मत कहिए..टैलेंट को पहचानने की बीजेपी की खासियत या फिर ग्रासरूट से जुड़े नेता को प्रमोट करने की स्टाइल..बीजेपी के पास सेकेंड जेनरेशन लीडर्स की ऐसी लाइन लग चुकी है कि अमित शाह ने 50 साल तक सत्ता में बने रहने का जो दावा किया था..वो कहीं सच ना हो जाए..योगी आदित्यनाथ, हिमंता बिस्वा शर्मा, देवेंद्र फडणवीस, पुष्कर धामी, सुभेंदु अधिकारी के बाद अब साउथ में बीजेपी का एक नया स्टार खडा हो रहा है औऱ नाम है अन्नामलाई कुप्पुसामी..
IIM लखनऊ के प्रोडक्ट और IPS की नौकरी छोड़कर राजनीति में उतरे अन्नामलाई फिलहाल तमिलनाडु बीजेपी के अध्यक्ष हैं..उम्र महज 38 साल..यानी राजनीति और राहुल गांधी के हिसाब से युवा नेता..जयललिता के निधन के बाद से AIADMK की हालत वैसे ही खराब है...रजनीकांत कह चुके कि अब राजनीति में कभी नहीं उतरेंगे..यानी अपनी पार्टी नहीं बनाएंगे..और कभी राजनीति में उतरे भी तो बीजेपी को ही सपोर्ट करेंगे..कमल हासन की पार्टी फ्लॉप हो चुकी..ले-देकर बाकी बची स्टालिन की DMK..यानी तमिलनाडु में BJP Vs DMK की बाइपोलर फाइट होने के पूरे चांस हैं..अभी नहीं तो कुछ साल बाद ही सही..वैसे भी राजनीति T-20 नहीं बल्कि टेस्ट मैच है..पीढ़ियों और दशकों की तैयारी अभी से करनी पड़ती है...स्टालिन अभी 69 साल के हैं..यानी भारतीय राजनीति के लिहाज से 10-15 साल और खींच सकते हैं..कुल मिलाकर तमिलनाडु में बीजेपी के लिए उर्वर ज़मीन तैयार हो रही है और इस उर्वर ज़मीन पर बीजेपी ने अपने लिए वोटों की फसल उगाने का काम दिया है अन्नामलाई को...पंचायत और निकाय चुनाव में बीजेपी का ठीक-ठाक खाता खुलवाकर अन्नामलाई ने बीजेपी की बोहनी भी कर दी है..हालांकि सीट बहुत ज्यादा नहीं मिली लेकिन वोट परसेंटेज के हिसाब से बीजेपी नंबर 3 पर रही..
आज से 10 साल पहले अगर कोई कहता है कि एक नॉर्थ इंडियन और हिंदी भाषी पार्टी तमिलनाडु की सियासत में धमक पैदा कर देगी तो लोग ऐसा कहने वाले को पागल कहते..नॉर्थ इंडिया और हिंदी से तमिलों का बैर जगजाहिर है...लेकिन पहले प्रधानमंत्री मोदी की कोशिश..(तमिल सबसे प्राचीन भाषा है से लेकर तमिल कवियों की कविताओं का जगह-जगह पाठन) और अब अन्नामलाई की तरफ से ग्रासरूट लेवल पर की जा रही मेहनत बीजेपी को उस तरह ले जा रही है..जहां वो जाना चाहती है..बीजेपी जानती है कि नॉर्थ और वेस्ट इंडिया में वो हमेशा उस तरह का प्रदर्शन नहीं कर पाएगी जैसा 2014 और 2019 में किया था..इसलिए वो अपने लिए नए-नए ठिकाने खोज रही है..42 सीट वाले पश्चिम बंगाल को तो 2019 में क्रैक कर लिया था..अब 39 सीट वाले तमिलनाडु में पकड़ बनानी है..अभी ज़ीरो है..लेकिन ज़ीरो से दहाई आंकड़े तक पहुंचना असंभव भी नहीं है..वो भी तब जबकि बीजेपी 24x7 इलेक्शन के मूड में रहती है..तमिलनाडु में अभी ना तो स्थानीय निकाय चुनाव हैं..ना ही विधानसभा चुनाव लेकिन बीजेपी रोज़ किसी ना किसी बहाने रैली कर रही है और अन्नामलाई की रैली में ज़बरदस्त भीड़ भी उमड़ रही है..एक ऐसे वक्त में जब दूसरी क्षेत्रीय और परिवारवादी पार्टियां सिमटती जा रही हैं..ममता बनर्जी और चंद्रशेखर राव (अभिषेक बनर्जी और केटी रामराव) के अलावा कोई भी परिवारवादी पार्टी ऐसी नहीं है जो अगली पीढ़ी को तैयार कर रही है..इस उथल-पथल भरे दौर में बीजेपी युवा क्षत्रपों को चुन रही है और पार्टी की कमान दे रही है..अन्नामलाई 2020 में बीजेपी में शामिल हुए..2021 में अध्यक्ष बन गए..
याद रखिए अगर आपको सत्ता की मलाई खानी है तो अन्ना मलाई जैसे नेताओं को आगे करना होगा...एक नेता और एक परिवार के दम पर देश पर राज करने का वक्त अब नहीं रहा.
 
- DEEPAK JOSHI

Related Posts

Follow Us