मुंबई के डायरेक्टर ने लोकेशन देख तलाशी फ़िल्म निर्माण की संभावनाएं

मुंबई के डायरेक्टर ने लोकेशन देख तलाशी फ़िल्म निर्माण की संभावनाएं

मुंबई के डायरेक्टर ने लोकेशन देख तलाशी फ़िल्म निर्माण की संभावनाएं

कोंच (जालौन) :: तृतीय कोंच इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल के मंच पर कोंच की प्रतिभाओं के साथ कोंच में फ़िल्म निर्माण की घोषणा को साकार रूप देने में मुंबई के फ़िल्म निर्माता रविन्द्र चौहान जुट गए हैं, इसी के तहत उन्होंने नगर के कई स्थलों का भ्रमण कर फ़िल्म निर्माण की संभावनाएं तलाशी एवं लोकेशन रेकी की।फ़िल्म निर्माता एवं चंबल सिने प्रोडक्शन के मालिक रविन्द्र चौहान ने फेस्टिवल संस्थापक/संयोजक पारसमणि अग्रवाल के साथ भारत माता मंदिर, बड़ी माता मंदिर, झला पठा, सरोजनी नायडू पार्क, गढ़ी, बारह खम्बा, धनुताल, रामलला मंदिर आदि जगहों पर भम्रण कर फ़िल्म निर्माण की संभावनाओं को तलाशा। फ़िल्म निर्माता रविन्द्र चौहान ने कहा कि उन्होंने तृतीय कोंच इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में घोषणा की थी कि वह कोंच के सहयोग से कोंच की प्रतिभाओं के साथ कोंच की माटी पर फ़िल्म निर्माण करेंगे इसी सिलसिले में मैने कई जगह भृमण कर फ़िल्म निर्माण की संभावनाओं को तलाशा एवं लोकेशन रेकी की।उन्होंने कहा कि फ़िल्म निर्माण के तीन चरण होते हैं प्री प्रोडक्शन, प्रोडक्शन,पोस्ट प्रोडक्शन। कोंच में फ़िल्म शूट करने के लिए पहले चरण प्री प्रोडक्शन के अंतर्गत आने वाली तैयारियों को करना प्रारम्भ कर दिया गया है। संस्थापक/ संयोजक पारसमणि अग्रवाल ने बताया कि फ़िल्म निर्माण की तैयारियों को जल्द पूर्ण कर लेने की कोशिशें है उम्मीद है कि अक्टूबर तक फ़िल्म की शूटिंग प्रारम्भ हो जाएगी।

 

बड़ा खम्भा पर अतिक्रमण देख दुःखी हुए फ़िल्म निर्माता, नेताओं व प्रशासन से की सरंक्षित करने की अपील

Also Read Big Breaking : खदान धंसने से 7 मजदूर की दर्दनाक मौत, कई लोग घायल, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी…

कोंच (जालौन) फ़िल्म निर्माण की संभावनाओं को तलाशते हुए लोकेशन रेकी करते हुए बारह खम्बा पहुँचे फ़िल्म निर्माता रविन्द्र चौहान अतिक्रमण देख दुःखी हो गए, उन्होंने उन्ही से वीडियो जारी करते हुए नेताओं व प्रशासन से ऐतिहासिक धरोहर बारह खम्भा को सरंक्षित करने की अपील की। उन्होंने अपने वीडियो में कहा कि पुरातत्व विभाग द्वारा इस इमारत को सरंक्षण प्रदान किया गया है लेकिन इसके साथ साथ नेताओं व स्थानीय प्रशासन का भी यह दायित्व बनता है कि बारह खम्बा जैसी अमूल्य एवं ऐतिहासिक इमारतों को सरंक्षित करें।

            रिपोर्ट- नवीन कुशवाहा

Related Posts

Follow Us