असम बाढ़ त्रासदी : मिठू हुसैन लश्कर और काबुल खान की साजिश से पानी में डूबा सिलचर

असम बाढ़ त्रासदी : मिठू हुसैन लश्कर और काबुल खान की साजिश से पानी में डूबा सिलचर

अभी तक समाज के असमाजिक तत्व भौतिक रूप से हिंसा कर अन्य लोगों को नुकसान पहुॅचाते थे, लेकिन असम में समुदाय विशेष के चार लोगों ने ऐसा कारनामा किया कि लाखों लोगों को बेघर होना पड़ा और न जानें कितने ही लोग साजिश के बहाव में डूब गये। 

हाल ही में सभी लोगों ने असम में आयी भीषण बाढ़ की त्रासदी को देखा होगा। पहली नजर में तो यह बाढ़ प्राकृतिक आपदा के रूप में ही नजर आ रही थी, लेकिन एक जांच रिपोर्ट में चौकाने वाला खुलासा हुआ है। जांच रिपोर्ट के मुताबिक यह बाढ़ समुदाय विशेष के चार लोगोंं द्वारा लायी गई थी। 

जांच रिर्पोट के मुताबिक बारिश के कारण मिजोरम से असम तक बहने वाली बराक नदी अपने उफान पर बह रही थी। इसी दौरान चार लोगों ने सिलचर में नदी के तटबंध काट दिये। जिससे पानी नदी की जगह आबादी वाले क्षेत्रों में घुस गया। तटबंध काटने के आरोप में काबुल खान, मिठू हुसैन लश्कर, नाजिर हुसैन लश्कर और रिपुन खान को गिरफ्तार किया है। कछार की एसपी रमनदीप कौर ने इनकी गिरफ्तारी की पुष्टि की है।

खुद के फिल्माये विडियो से फंसे गुनाहगार

कहते है कि अपराधी कितना भी शातिर क्यों न हो अपने अपराध का कोई न कोई सुराग छोड़ ही जाता है। ऐसा ही बराक नदी के तटबंध तोड़ने के आरोपितों के साथ भी हुआ। 

तटबंध तोड़ते हुए लोगों ने खुद का वीडियो बनाया था। वीडियो सामने आने के बाद ससे पुलिस छानबीन में लग गई। इस वीडियो को मुख्यमंत्री ने कछार जिले में तटबंध स्थल का दौरा करते समय स्थानीय निवासियों को दिखाया था। वह लोगों से वीडियो में आवाजों की पहचान करने के लिए कहा गया था। इसके बाद काबुल खान की पहचान हो गई।

 34 जिलों तक फैला कहर, लाखों बेघर, 184 की मौत 

तटबंध टूटने के कारण आयी बाढ़ ने 34 जिलों को अपने आगोश में ले लिया। जिससे लगभग 90 लाख लोग प्रभावित हुए है। लाखों लोग बेघर हो गये, जबकि 184 लोगों की अभी तक मौत हो चुकी है। 

Recent News

Related Posts

Follow Us