पहली ही बारिश में बह गया विकास , बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे की रोड धसी

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे की रोड धसी, 16 जुलाई हुआ था शुभारंभ

पहली ही बारिश में बह गया विकास , बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे की रोड धसी

जालौन :: बुंदेलखंड के विकास के लिए सरकार ने जो नया एक्सप्रेस वे बनाया था और बीते कुछ दिन पूर्व भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया था। लेकिन इतने लंबे चौड़े खर्च और बुंदेलखंड के विकास की चर्चा कुछ दिन ही नहीं चली और बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के उद्घाटन के बाद हुई पहली बरसात में ही एक्सप्रेस वे का विकास पानी में बह गया। गौरतलब है कि बीते 16 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया था और महज कुछ दिन के अंदर ही करोड़ों की लागत से बने इस एक्सप्रेस वे का विकास पानी में बह गया। 

उद्घाटन के बाद 5 दिन में ही बहा एक्सप्रेस वे

Also Read तेज रफ्तार बाइक बाइक में भिड़ंत एक युवक की मौत 3 जख्मी किए गए रेफर।

जैसा कि उत्तर प्रदेश में एल अलर्ट जारी है राजधानी लखनऊ समेत कई जिलों में बारिश हो रही है लेकिन बुंदेलखंड के लोगों को नई आस जगाने के बाद से महज 5 दिन में ही बुंदेलखंड का विकास पानी में बह गया।पहली बारिश में बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे की रोड धसक गयी। जिससे रात्रि के समय तेज रफ्तार वाहन अनियंत्रित होकर क्षतिग्रस्त हो गए हो गए ऐसी सूत्रों से जानकारी मिल रही है । 16 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैथेरी गांव से बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का शुभारंभ किया था। जिसके बाद जनता के लिए यह एक्सप्रेस वे को खोल दिया गया। मगर इस एक्सप्रेस वे की पोल पहली ही बारिश ने खोल दी। बुधवार को हुई बारिश के कारण एक्सप्रेस वे जगह-जगह बैठ गया है, तो वहीं सूत्रों से जानकारी मिल रही है कि इन गड्ढों के कारण रात में कई हादसे हो गए हैं।

आपको बता दें कि चित्रकूट से इटावा तक 296 किलोमीटर लंबे और 14800 करोड़ की लागत से बनाया गया है। लेकिन इसकी गुणवत्ता की पोल जालौन में बुधवार को हुई मूसलाधार बारिश ने खोलकर रख दी। बारिश के कारण जालौन के छिरिया सलेमपुर से निकले इस एक्सप्रेस वे पर 2 से 3 फुट गड्ढे हो गए। इन गड्ढों के कारण कई यात्रियों की गाड़ी क्षतिग्रस्त हुई है। इसके अलावा कई यात्री घायल भी हुए है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था उच्च क्वालिटी का है यह हाईवे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 जुलाई को संबोधित करते हुए कहा था कि 28 माह में इस एक्सप्रेस भी को बनाया गया है और जिसे उच्च क्वालिटी का बनाकर यूपी सरकार ने यह साबित कर दिया है कि कोई भी काम ईमानदारी से किया जाए तो वह है गुणवत्ता पर जरूर होगा। लेकिन इस एक्सप्रेस वे की गुणवत्ता की पोल जरूर बारिश ने खोल कर रख दी है। यदि इस एक्सप्रेस-वे पर सही तरीके से काम हुआ होता। तो निश्चित ही 5 दिन के अंदर इस एक्सप्रेस वे में 2 से 3 फुट के गड्ढे नहीं होते। जिस जगह बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की रोड धसी है, वह पैकेज फोर के तहत बनाई जा रही है। यह रोड बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के 195 किलोमीटर की दूरी पर धसी है, रोड के क्षतिग्रस्त होने के कारण इसको बंद कर दिया गया है। साथ ही जेसीबी मशीन की मदद से इसे खोदा जा रहा है, जिससे इसे दोबारा बनाया जा सके। राजस्थान की गावर कंपनी द्वारा बनाया जा रहा है। गावर कंपनी देश की मानी हुई रोड बनाने वाली कंपनी है।

               रिपोर्ट- नवीन कुशवाहा

Related Posts

Follow Us