चालीसवाँ न करके पौधारोपण कर मिशाल की पेश

चालीसवाँ न करके पौधारोपण कर मिशाल की पेश

उरई (जालौन) । कुछ माह पहले एट क्षेत्र में बने सलाघाट में दो लोगो की डूबने से मृत्यु हो गई थी । स्वर्गीय मो अरबाज और स्वर्गीय मो उवेश खान की , आज उनके परिजनों ने चालीसवाँ न करके पौधारोपण करके एक मिशाल पेश की है । आज पौधारोपण किया गया । शहर उरई के जिला अस्पताल में स्वर्णीय मो अरबाज खांन और स्वर्गीय मो उवेश खांन के परिजनो ने ,स्वर्गीय मो अरबाज खांन के पिता मो परवेज खांन, जिला अस्पताल में चतुर्थ श्रेणी पद पर तैनात है ,माँ जीनत बेगम,बहिन शदब परवीन,दामाद मुसर्रत उल्ला उर्फ मान खान ,अलीम सर,वही दूसरे उवेश के पिता उस्मान व उनके भाई स्मृति में पौधारोपण किया हैं। स्वर्गीय मो अरबाज खांन व स्वर्गीय मो उवेश खांन का कुछ माह पूर्व स्वर्गवास हो गया था। शनिवार को उनकी चालीसवाँ के दिन चालीसवाँ न करके पौधरोपण पर उनकी याद में पिता, माँ, बहिन, दामाद ने उनकी स्मृति में जिला अस्पताल में बने कम्पाउंड में बरगद, पीपल और नीम,सौजना, और कुछ फलदार पेड़ लगाने 

इस अवसर पर जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ अवनीश कुमार बनौधा, ने कहा की अपने स्मृति शेष अरबाज व उवेश की याद में अगर हम कोई पेड़ लगाते हैं तो वह हमें आजीवन उनकी याद दिलाता रहेगा। पेड़-पौधों का मनुष्य के जीवन में बहुत बड़ा महत्व है। इसलिए मनुष्य को अपने बुजुर्गों और प्रियजनों की याद में कम से कम दो पेड़ अवश्य लगाने चाहिए। वहीं अरबाज के पिता मो परवेज खां के अनुसार उनके बेटे को इससे बड़ी कोई श्रद्धांजलि नहीं हो सकती की उनके नाम पर लगाया गया वृक्ष हरा-भरा रहे और शीतल छाया दे। हर मानव पर प्रकृति का ऋण होता है जो न केवल जीते जी अपितु मरने के बाद भी रहता है। अगर हम उनकी स्मृति में उनके नाम से कोई पौधा लगाते हैं तो यह चालीसवाँ से भी बड़ा पुण्य का कार्य हैं। सामाजिक कार्यकर्ता अलीम सर और शांति स्वरूप महेश्वरी ने बताया की आज हमने पेड़ पौधे लगाए तो आने वाली पीढि़यों को भी उसका लाभ होगा। विगत कुछ दशकों में मानव ने पेड़ों को काटा ही नहीं,मौके पर रेड क्रॉस सोसायटी के सचिव डॉ नरेश वर्मा, डॉ पी सी पुरोहित सर्जन, डॉ ममता स्वर्णकार, युद्घवीर सिंह कंथरिया,लक्ष्मण दास बाबानी, सुन्दलाल अहिरवार, नीरज कुमार, कमाल अहमद एडवोकेट, हाजी नासिर उद्दीन एडवोकेट, अध्यापक अब्दुल हकीम खान, निसार अहमद सलमानी, नवीउद्दीन, शकील बरकाती, एन सी सी कैडेट नसीम खान, आकाश, अमन, माली धर्मेंद्र कुमार का भी विशेष सहयोग रहा , स्टाफ नर्स अर्चना मेम, अर्चना सिस्टर, मैटिन कमलेश वर्मा, मौजूद रहे।

Also Read सावधान सोशल मीडिया पर विष फैला रही “डिजिटल विष कन्याओं” से रहे सतर्क

रिपोर्ट :: दीपू द्विवेदी

Recent News

Related Posts

Follow Us