जिला बाल संरक्षण इकाई सुपौल के द्वारा एक दिवसीय उन्मुखीक प्रशिक्षण-सह-उन्मुखीकरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

जिला बाल संरक्षण इकाई सुपौल के द्वारा एक दिवसीय उन्मुखीक प्रशिक्षण-सह-उन्मुखीकरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

सुपौल : मंगलवार को जिला बाल संरक्षण इकाई सुपौल के द्वारा एक दिवसीय उन्मुखीक प्रशिक्षण-सह-उन्मुखीकरण कार्यक्रम का आयोजन जिला समाहरणालय स्थित टी.सी.पी भवन में किया गया।जिलाधिकारी कौशल कुमार,डी.अमरकेश,पुलिस अधीक्षक,रणविजय कुमार,सचिव, विधिक सेवा प्राधिकार व्यवहार न्यायालय,सुपौल एवं श्री मुकेश कुमार, उप विकास आयुक्त, सुपौल के द्वारा प्रशिक्षण कार्यक्रम का सामुहिक रूप से उद्घाटन दीप प्रज्वलित कर किया गया। जिले के सभी थानों के बाल कल्याण पुलिस अधिकारियों एवं बाल संरक्षण से जुड़े सभी हित धारकों को वृहद तरीके से किशोर न्याय (बालकों की देख-रेख और संरक्षण) अधिनियम 2015 एवं अधिनियम से संबंधित बिहार नियमावली 2017 एवं बच्चों से जुड़े विभिन्न कानूनों का प्रशिक्षण दिया गया।

जिलाधिकारी, सुपौल द्वारा बड़े ही बेहतरीन ढंग से बाल संरक्षण से जुड़े सभी हित कारकों को बताया कि बच्चों का ही आवश्यक है परंतु प्रावधानों के अनुरूप ही होना चाहिए तभी बच्चों का हम भला कर सकते हैं। पुलिस अधीक्षक, सुपौल द्वारा सभी बाल कल्याण पुलिस अधिकारियों को समय से कार्य करने का निदेश दिया गया ताकि जिला के बच्चों का हित हो सके। पुलिस अपने कर्तव्यों का निर्वहन ईमानदारी से करें।

Also Read नहीं हुआ कोयला बिजली का वित्तपोषण, 2021 में मिली रिन्यूबल एनेर्जी को तरजीह

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव रणविजय कुमार पांडे द्वारा CWPO को बताया गया कि बच्चों के लिए आप ही न्यायालय हैं, सबसे पहले बच्चे आपके पास आते हैं आप सबो का जवाब देही होती है। आप अपने जांच को इतनी मजबूती एवं अच्छे ढंग से करें कि बच्चों का सर्वोत्तम हित हो सके। आपका व्यवहार बच्चों के साथ बालमित्र और बाल केंद्रित हो जिससे कि बच्चों से जुड़े कानूनों का क्रियान्वयन बहुत ही अच्छे ढंग से हो सके। कार्यशाला में आए यूनिसेफ के श्री शाहिद द्वारा बड़े ही विस्तार से किशोर न्याय अधिनियम एवं बच्चों से जुड़े नियमावली पर CWPO एवं बाल संरक्षण के सभी हित कारकों को अवगत कराए गए। जेल एवं बेल के संबंध में विस्तार से चर्चा की।

रिपोर्ट : संतोष कुमार सिन्हा,सुपौल।

Recent News

Related Posts

Follow Us