जालौन में खतरे के निशान से ऊपर बह रही यमुना  स्कूल की बिल्डिंग डूबी

जालौन में खतरे के निशान से ऊपर बह रही यमुना  स्कूल की बिल्डिंग डूबी

जालौनः जिले में यमुना ने शुक्रवार को खतरे के निशान 108 मीटर को पार कर लिया है. इससे यमुना पट्टी के गांव में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं. जिलाधिकारी चांदनी सिंह  ने एसडीएम अंकुर कौशिक  के साथ मिलकर राहत बचाव टीम के साथ गांवों में जाकर हालातों का जायजा लिया गया. इन प्रभावित क्षेत्रों में रामपुरा ब्लॉक के स्कूल की बिल्डिंग पानी में समा गई है. जिसके बाद प्रशासन ने एहतियात बरतते हुए गांव के लोगों को ऊंची जगह पर अस्थाई तौर पर बसा दिया है।

बता दें कि उरई मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर माधौगढ़ तहसील के छह गांवों जिसमें डिकोली, नीनावली, जागीर , बेरा, मोहब्बत पुरा गांव में यमुना का पानी आ गया है. जिसमें मोहब्बतपुर प्राथमिक स्कूल तो यमुना के पानी में पूरी तरह समा गया है. जिसे देखते हुए प्रशासन ने रेस्क्यू टीम को लगाकर ग्रामीणों को अस्थाई तौर पर ऊंचे इलाकों में शिफ्ट करना शुरू किया।

Also Read मध्यप्रदेश में भी लगाएंगे बहुआयामी कृषि प्रदर्शनी, लागू करेंगे नवाचार – मुख्यमंत्री श्री चौहान

 

यमुना के लगातार जलस्तर बढ़ने की आशंका पर जिलाधिकारी ने सभी बाढ़ राहत चौकियों को हाई अलर्ट पर कर दिया है. मदारपुर, देवकली, जकसिया, सुरौली, सोरेला, गौलीली, मंगरोल, नरहन और धर्मपुर समेत करीब 24 से अधिक गांवों का मुख्यालय से संपर्क कट गया है. उन गांवों में लेखपालों और सचिवों को कैंप करने के निर्देश भी दे दिए गए हैं. संक्रामक रोगों को देखते हुए 12 से अधिक गांवों में स्वास्थ्य टीम को तैनात कर दिया गया है, जिससे गांव के लोगों को आने-जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ रहा है.

दीपू द्विवेदी (ब्यूरो चीफ)

Recent News

Related Posts

Follow Us