प्रेम व समाज को नए सिरे से परिभाषित करती कविताएँ 

प्रेम व समाज को नए सिरे से परिभाषित करती कविताएँ 

कवि के बारे में---


उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के मछलीशहर तहसील के अंतर्गत आने वाले एक छोटे से गाँव चक इंगलिश (पौहाँ) में मेरा जन्म हुआ। प्राथमिक शिक्षा गाँव के ही स्कूल में हुई। द्वारिका प्रसाद इंटर कॉलेज,दशरथपुर से 2010 में प्रथम श्रेणी में हाईस्कूल उत्तीर्ण करने के बाद फ़ौजदार यादव इंटर कॉलेज, मछलीशहर से 2012 में प्रथम श्रेणी में इंटर उत्तीर्ण किया।इसके बाद उच्च शिक्षा के लिए इलाहाबाद आना हुआ।

Also Read केंद्रीय विद्यालयों में प्रतियोगी परीक्षार्थियों के लिए टीचर बनने का सुनहरा अवसर 

यहाँ इलाहाबाद विश्वविद्यालय के संघटक कॉलेज सीएमपी डिग्री कॉलेज से 2012-15 सत्र में प्रथम श्रेणी में स्नातक किया फिर इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग से हिंदी में 2015-17 सत्र में प्रथम श्रेणी में परास्नातक किया।इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय से प्रथम श्रेणी में शिक्षा स्नातक, प्रयाग संगीत समिति से गायन में प्रभाकर की उपाधि प्राप्त की।

पहले विभिन्न सांस्कृतिक मंचों से जब अपनी प्रस्तुति देता था तो मन में तमाम पंक्तियाँ गूँजती थी लेकिन वह कभी कविता नहीं बन पायीं।कविता लिखने की कोशिश एमए करने के बाद शुरू हुई।

लेखन कार्य के अतिरिक्त गीत-लोकगीत गाना, गीत कम्पोज करना व कीबोर्ड,हारमोनियम बजाना जीवन शैली में शुमार है।यह कहने की आवश्यकता नहीं की पढ़ाई व नौकरी जीवन के केंद्र में है।

प्रस्तुत पुस्तक के अतिरिक्त विभिन्न काव्य मंचों व ऑनलाइन काव्य-पाठ भाग में लेते रहे हैं व विभिन्न साझा-संग्रहों में रचनाएँ प्रकाशित होती रही हैं।

Recent News

Related Posts

Follow Us