क्या मरते हुए शहर के रूप में बढ़ रहा है बंगलुरु

क्या मरते हुए शहर के रूप में बढ़ रहा है बंगलुरु

बागों, झीलों और ठन्डे मौसम वाला बंगलुरु शहर वर्ष 1990 में भारत का सबसे तेजी से उभरने वाला शहर बना। बंगलुरु उस समय अमेरिका की सिलिकॉन वेली की तरह सुन्दर शहर था। इस सुन्दर उभरते हुए शहर में सभी IT सेक्टरों ने अपनी कपिनियों को खोलना शुरू कर दिया। जिससे यहाँ की झीलों और बागों को रेत में बदलने में TIME नहीं लगा। 

बाढ़ से परेशान बंगलुरु की IT कम्पनियाँ और बेंगलुरु शहर 

Also Read कानपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी ने बच्चों को दुलारा , कानपुर को दिया 387.59 करोड़ की 272 परियोजनाओं का तोहफा

बंगलुरु शहर में लगातार बारिश की वजह से बंगलुरु में सभी जगह पानी लपालप भरा हुआ है। वहां की ऐसी कंडीशन है कि वहां के लोग एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए नावों का साह्ररा ले रहे हैं। बंगलुरु शहर में IT सेक्टर की 3500  कंपनियां लगातार बारिश से प्रभावित हो रही है। इस मामले में वहां की कंपनियां सरकार से लगातार बात कर रहीं हैं। यदि इसका सरकार कुछ समाधान नहीं निकालती है तो, ये कंपनियां जल्द ही पलायन कर जाएँगी। यदि ऐसा होता है तो भारत को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। क्योंकि भारत सभी IT सेक्टरों का केंद्र है और बंगलुरु भारत की सभी कंपनियों का केंद्र है। 

 

Recent News

Related Posts

Follow Us