डीसीपी ने खुद संभाला था मोर्चा , झूठी निकली बच्ची के अपहरण की घटना , यह था पूरा मामला

डीसीपी ने खुद संभाला था मोर्चा , झूठी निकली बच्ची के अपहरण की घटना , यह था पूरा मामला

कानपुर ::: उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर के नौबस्ता बाईपास से डेढ़ माह की बच्ची के अपहरण की झूठी सूचना से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। आपको बता दें कि जैसे ही घटना के संबंध में जानकारी हुई तो आनन-फानन में नौबस्ता थाने की पुलिस एक्टिव मोड में आयी और मामले की तत्परता से जांच करने लगी। और कुछ ही घंटे में पुलिस ने मामले में दूध का दूध पानी का पानी कर दिया। सख्ती से पूछताछ के के बाद जब घटना का खुलासा हुआ तब पता चला कि एक महिला ने अपनी सहेली को बच्ची गोद दी थी। अब वह बगैर बताए वापस लेकर चली गई। फंसाने के लिए दंपति ने झूठी सूचना दी थी।

तीसरी संतान लड़की होने पर सहेली को दिया था गोद

Also Read पति ने पत्नी को पीटकर किया अधमरा , इलाज के दौरान मौत

घटना के संबंध में जानकारी प्राप्त हुई तो पता चला कि बर्रा के हरजिंदर नगर निवासी पिंकी पाल के बच्चे नहीं हैं। उनका ससुराल शिवराजपुर में है। लेकिन वह मौजूदा समय में मायके में रहती हैं। पिंकी के मायके के बगल में घाटमपुर निवासी कोमल ठाकुर किराए पर रहती थी। दोनों में अच्छी दोस्ती थी। कोमल के दो बेटियां पहले से थीं और डेढ़ महीने पहले एक बेटी और हो गई। इसके चलते कोमल ने अपनी तीसरी बेटी पिंकी को गोद दे दिया था। डेढ़ महीने बाद शनिवार को कोमल ने पिंकी को नौबस्ता बाईपास पर मिलने के लिए बुलाया। इसके बाद कहा कि मेरी बच्ची दे दो, मां को बहुत याद आ रही है। दो घंटे बाद इसे वापस पहुंचा देंगे। बच्ची ले जाने के बाद कोमल वापस नहीं लौटी और फिर उसने फोन पर बच्ची को लौटाने से इनकार कर दिया।

इस्से झल्लाए पिंकी और उसके पति सुशील ने साजिश रची और हनुमंत विहार थाने की पुलिस को झूठी सूचना दी कि उसकी दुधमुंही बच्ची को अगवा कर ले गए। पुलिस ने पिंकी के घर पहुंचकर जांच-पड़ताल की तो सच्चाई का खुलासा हो गया। इसके बाद पुलिस ने राहत की सांस ली। अब पुलिस ने कोमल से संपर्क करके उसको भी पूछताछ के लिए बुलाया है।

दंपत्ति से पूछताछ में खुला राज , डीसीपी खुद जांच करने पहुंचे

डीसीपी साउथ प्रमोद कुमार ने बताया कि बच्ची के अपहरण की जानकारी मिलते ही ,कई थानों की पुलिस के साथ वह खुद मौके पर जांच करने के लिए पहुंचे। दंपति से पूछताछ की तो दोनों बार-बार बयान बदल रहे थे। इसके चलते संदेह बढ़ गया। फिर पूछा कि बेटी किस अस्पताल में पैदा हुई थी‌। आप नौबस्ता बाईपास पर क्या करने आईं थी। अगवा करने वाले आपको पूर्व परिचित हैं तो बच्ची को लेकर क्यों भागे। इस तरह दर्जनों सवाल दंपति से पुलिस ने पूछे तो दोनों खुद ही अपनी साजिश में उलझ गए। इसके बाद दंपति ने सच्चाई बता दी।

  • रिपोर्ट :: अनुज जैन (ब्यूरो चीफ)

Recent News

Related Posts

Follow Us