इस बात पर मुंबई हाई कोर्ट ने लगाई BMC को लगायी फटकार

इस बात पर मुंबई हाई कोर्ट ने लगाई  BMC को लगायी फटकार

महारष्ट्र में बम्बई उच्चन्यालय ने सोमवार को महानगरपालिका से लोगों के द्वारा  मास्क न लगाये जाने पर वसूले गए जुर्माने का कारण पूँछा और कहा  कि क्या आपने कोविड -19 (Covid-19 ) के दौरान इसका उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना लगाया था। यदि ऐसा नहीं किया गया तो अब लोंगो पर जुर्माना क्यों लगाया गया है, और उन सभी याचिकाओं का जुर्माना वापस करो।  इस केस की सुनवाई की अध्यक्षता या  मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति माधव जामदार कर रहे हैं।  


याचिकाकर्ताओं ने महाराष्ट्र सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ  लोगों द्वारा Covid-19 के टीकों को खरीदने और लोगों को टीका लगवाने के लिए मजबूर करने के लिए याचिका लगायी है। न्यालाधीश ने वकील अनिल सखारे को महामारी अधिनियम की धारा 2 के सम्बन्ध में अवगत कराने का निर्देश दिया है। महाराष्ट्र सरकार  की ओर से वरिष्ठ वकील एस यू कामदार ने उद्धव ठाकरे के बचाव में  (Covid-19  के टीकीकरण ) में देरी नहीं की जा सकती है। इसलिए उद्धव ठाकरे पर लगाए गए आरोप गलत हैं, जिससे इन पर मुक़दमा नहीं चलाया जा सकता है। जिस पर अधिवक्ता नीलेश ओझा के द्वारा फिरोज मिथिबोरवाला ने एक याचिका में दावा किया है कि मास्क लगाने पर जोर देना "अवैज्ञानिक " था। इसलिए हम लोगों ने अपने धन को वापस लेने का अनुग्रह किया है। 

Also Read पंच तत्व में विलीन हुए कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव

Follow Us