पुलिस के हत्थे चढ़ा अंतर्राज्यीय एटीएम एक्सचेंज गिरोह का एक शातिर आरोपी

पुलिस के हत्थे चढ़ा अंतर्राज्यीय एटीएम एक्सचेंज गिरोह का एक शातिर आरोपी

उरई (जालौन)। साइबर क्राइम सेल और शहर कोतवाली की संयुक्त टीम ने एटीएम बदलकर लोगों के साथ फ्रॉड करने वाले अंतर राज्य एटीएम एक्सचेंज गिरोह के एक अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया है पुलिस ने उसके पास से रुपए एटीएम कार्ड और एक कार बरामद की पकड़े गए अभियुक्त ने बताया बताया उसके पांच अन्य साथी अभी फरार हैं। पुलिस अभियुक्तों की तलाश में जुटी है। मामले का खुलासा अपर पुलिस अधीक्षक ने पुलिस लाइन सभागार में किया।

अपर पुलिस अधीक्षक असीम चौधरी ने बताया कि बीपी 11 सितंबर 2022 को राम प्रसाद रजक पुत्र नाथूराम निवासी मोहल्ला शांति नगर ने कोतवाली में तहरीर देकर बताया था कि वह एटीएम से निकासी कर रहे थे उसी समय कुछ लड़के एटीएम में उनके पीछे खड़े होकर उनका इन देख लिया जब वह एटीएम से निकले तो पीछे खड़े लड़कों ने झांसा देकर उनका एटीएम बदल लिया और उससे पचास हजार पांच सौ रूपये निकाल लिए।इस संबंध में कोतवाली पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर साइबर टीम ने मामले की छानबीन शुरू कर दी थी। जिसके चलते पुलिस अधीक्षक रविकुमार के निर्देशन में इस घटना का शीघ्र अनावरण करने के लिए अपर पुलिस अधीक्षक असीम चौधरी व साइबर क्राइम टीम व कोतवाली उरई की पुलिस टीम को लगाया गया था। जिसके चलते साइबर क्राइम टीम और शहर कोतवाली की संयुक्त टीम ने चेकिंग के दौरान 20 सितंबर को इंडिया वन के एटीएम झांसी चुंगी के पास से एक अभियुक्त अंकित राज चौहान पुत्र योगेंद्र सिंह, निवासी चक्सा राम जानकी नगर थाना गोरखपुर जिला गोरखपुर को गिरफ्तार कर लिया।पुलिस ने उसके पास से बाइस सौ रुपए, 6 एटीएम कार्ड और अल्टिका चार पहिया कार बरामद की पुलिस की धरपकड़ के चलते पांच अभियुक्त अजय दुबे पुत्र अरविंद दुबे निवासी गोरखपुर उत्तर प्रदेश विशाल ठाकुर पत्र पुष्पेंद्र निवासी बरसात पुर, रामजानकी नगर गोरखपुर, सुनील चौहान पुत्र गुड्डू निवासी ब्राइट कोचिंग के पास रामजानकी नगर गोरखपुर, विष्णु यादव और गौरव उर्फ अनुभव भाग गए, पुलिस उनकी तलाश के लिए जगह-जगह छापे मार रही है। पकड़े गए अभियुक्त ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसके अंतर्राज्यीय गिरोह में 6 सदस्य हैं। जो कि प्रदेश के विभिन्न थाना क्षेत्रों में स्थित एटीएम मशीन पर आने जाने वाले बुजुर्गों पर नजर बचाकर उनका पिन देख लेते हैं, और किसी बहाने से ग्राहक का एटीएम कार्ड अपने पास मौजूद कार्ड से बदलकर अन्य किसी मशीन व पेट्रोल पंप में जाकर नगद रुपए लेकर फ्रॉड कल लेते थे आज वह बैंक के एटीएम से पैसे निकाल रहा था। इसी दौरान वह पकड़ा गया।

Also Read मेडिकल कालेज में बड़ा हादसा, बिजली बंद होने से 4 नवजातों की मौत

गिरफ्तार करने वाली टीम साइबर क्राइम प्रभारी राहुल सिंह, उपनिरीक्षक गौरव मिश्रा, अंकुश शंखवार, आलोक यादव, कृष्ण वीर इंदौरिया, सुशांत मिश्रा साइबर, बृजेश कुमार कोतवाली शामिल रहे।

अंकुश और आलोक का रहा विशेष योगदान

साइबर टीम द्वारा पकड़े गए अंतर्राज्यीय एटीएम एक्सचेंज गिरोह के एक अभियुक्त को पकड़ने में साइबर क्राइम के सिपाही अंकुश संखवार और आलोक यादव का विशेष योगदान रहा। जिन्होंने मुखबिर की सूचना पर इसकी जानकारी। आला अधिकारियों को दी और टीम के साथ खुद जाकर अभियुक्त को गिरफ्तार किया। जिसके चलते एक बड़ा खुलासा हो गया।

  • रिपोर्ट : दीपू द्विवेदी (ब्यूरो चीफ)

Related Posts

Follow Us