इस टेक्नोलॉजी से भारत और अमेरिका मिलकर करेंगे चीन का मुकाबला

इस टेक्नोलॉजी से भारत और अमेरिका मिलकर करेंगे चीन का मुकाबला

भारत और अमेरिका देश मिलकर ड्रोन का निर्माण करेगा, जो भारत को चीन का मुकाबला करने के लिए अहम् भूमिका निभाएगा। भारत और अमेरिका दोनों ही देशों का सम्बन्ध चीन के साथ अच्छा नहीं है। दोनों देशों के ड्रोन बनाने की खबर से  चीन पर दबाव बनेगा। भारत और अमेरिका की मित्रता बढ़ने से भारत, अमेरिका से युद्ध का सामान भारी मात्रा में खरीदेग। जिससे अकेले रूस से युद्ध के सामान लेने का भार कम हो जायेगा, क्योंकि भारत में अधिकतम हथियार रूस से ही हैं। 

भारत और अमेरिका मिलकर जिन ड्रोन का निर्माण करेगें, भारत उन ड्रोन को अपने देश के सैन्य और दक्षिण - पूर्व एशियाई देश ( जो भारत से जुड़े हुए हैं ) को सस्ती कीमतों पर निर्यात करेगा। भारत और अमेरिका देश के बीच सम्बन्ध पहले से इतने अच्छे नहीं थे, परन्तु चीन का दोनों देशों के खिलाफ रवैया देखते हुए साथ में दोनों देश मित्रवत तरीके से आ मिले। भारत और अमेरिका के बीच सम्बन्ध को 2016 में बने अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनाल्फ ट्रम्प से ज्यादा मजबूती मिली।  2016 में ही अमेरिका ने भारत को प्रमुख रक्षा भागीदार के रूप में नियुक्त किया। तब से दोनों देशों ने ऐसे समझौतों पर हस्ताक्षर किये हैं, जो शीर्ष - श्रेणी के हथियारों के हस्तांतरण की सुविधा प्रदान करते हैं और सैन्य सहयोग को गहरा करते हैं। 

Related Posts

Follow Us