चाचा के इस कुकर्म से खफा होकर भतीजे ने चाचा को मारी गोली

चाचा के इस कुकर्म से खफा होकर भतीजे ने चाचा को मारी गोली

कानपुर नगर के बिल्हौर क्षेत्र के रसूलपुर गांव में प्रताप उर्फ़ गुड्डू ने दिनांक 22 सितम्बर को अपने चचेरे कुकर्मी चाचा को गोली मार दी थी। जिसकी कार्यवाही करते हुए बिल्हौर क्षेत्र की पुलिस ने जब गुड्डू से बयान लिया है। जिसमे गुड्डू ने  अपने चचेरे चाचा को गोली मारने का जिक्र किया है। 

गुड्डू के चचेरे चाचा ने 8 अप्रैल 2000 को कन्नौज के तिर्वा गांव में बच्चे टिल्लू उर्फ़ चंद्रप्रकाश को अपहरण कर उसकी हत्या कर दी थी। जिसकी वजह से चाचा लालौनी उर्फ़ सुनील को 23 नवंबर 2009 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गयी थी। अभी 15 अगस्त 2022 को ही सुनील जेल से रिहा होकर घर आया था। गुड्डू अपने चाचा से उनके कर्मों की वजह से खुश नहीं था। गुड्डू उनके कुकर्म को अच्छी तरह से जनता था। गुड्डू की अनुपस्थित में भी उसके चचेरे चाचा सुनील उसके घर में आया करते थे और अधिक समय तक रुका करते थे। ये सब गुड्डू की गैरमौजूदगी में होता था। जब गुड्डू को इन सब बातो के बारे में जानकारी मिली तो गुड्डू ने कई बार अपने चाचा को घर में आने के लिए मना किया। लेकिन चाचा के न मानने पर गुड्डू ने अपने चचेरे चाचा को गोली मारकर हत्या कर फरार हो गया था। लेकिन पुलिस ने अब गुड्डू को  हिरासत में लेकर सभी बातों का बयान लिया है। 

Related Posts

Follow Us