स्वीडन के स्वांते पैबो को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त

स्वीडन के स्वांते पैबो को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त

विलुप्त प्रजातियों के जिनोम रिसर्च के या फिजियोलॉजी या मेडिसिन के क्षेत्र में स्वांते पैबो को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। स्वांते पैबो को जीनोम होमिनिन (आनुवंशिकी) और मानव विकास के जीनोम से जुड़ी खोजों के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया है। नोबेल समिति के सचिव थॉमस पर्लमैन ने कोरोलिंस्का संस्थान में विजेता की घोषणा की।


नोबेल समिति ने कोरोलिंस्का इंस्टीट्यूट में आज विलुप्त होमिनिन और मानव विकास के जीनों से जुड़ी खोजों के लिए स्वंते पैबो को फिजियोलॉजी या चिकित्सा क्षेत्र में 2022 का नोबेल पुरस्कार देने का फैसला किया है। पैबो पैलियोजेनेटिक्स के संस्थापकों में से एक रहे हैं जिन्होंने निएंडरथल जीनोम पर बड़े पैमाने पर काम किया है। स्वांते पैबो जर्मनी के लीपजिंग में मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट फॉर इवोल्यूशनरी एंथ्रोपोलॉजी मेंजेनेटिक्स विभाग के निर्देशक रहे हैं। बीते साल 2021 का चिकित्सा के नोबेल पुरस्कार से डेविड जूलियस और आर्डेन पैटामूटियम को सम्मानित किया गया था। इन दोनों शोधकर्ताओं को शरीर के तापमान, दबाव और दर्द देने वाले रिसेप्टरों की खोज के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था। दोनों नोबेल विजेता अमेरिकी थे। ये दोनों नोबेल विजेता जूलियन यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में प्रोफेसर हैं और वहीं पैटापूटियनअर्मेनियाई मूल के अमेरिकी नागरिक हैं और ला जोला के स्क्रिप्स इंस्टीट्यूट में वैज्ञानिक हैं। आज से शुरुआत नोबेल पुरस्कार चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के साथ ही नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की शुरूआत हो गई है। अब कल यानी मंगलवार को भौतिकी विज्ञान, बुधवार को रसायन विज्ञान और गुरुवार को साहित्य के क्षेत्र में इन पुरस्कारों की घोषणा की जाएगी। 2022 के नोबेल शांति पुरस्कार की घोषणा शुक्रवार और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में पुरस्कार की घोषणा 10 अक्तूबर को होगी। 

Also Read राजस्थान की परंपराओं और संस्कृति के अनछुए पहलुओं को सामंजस्य में लाने का प्रयास करेगी फिल्म 'केसर कस्तूरी' 

Recent News

Related Posts

Follow Us