जानिए किस उपाय से घट सकता है 30 करोड़ कार के बराबर मीथेन उत्सर्जन

जानिए किस उपाय से घट सकता है 30 करोड़ कार के बराबर मीथेन उत्सर्जन

वैश्विक कार्बन उत्सर्जन काम करने में कचरे का निवारण बड़ी भूमिका निभा रही है। व्यक्ति के सामने मुँह बाए खड़े जलवायु परिवर्तन के संकट से निपटने में कचरे से खाद बनाने जैसे मामूली दिखने वाले उपाय भी बहुत काम के हो सकते हैं। 


मेथेन गैस कार्बन डाई ऑक्साइड से भी ज्यादा खतरनाक होती है क्योंकि यह कम समय में कार्बन डाई ऑक्साइड से 80 गुना ज्यादा सौर रेडिएशन सोखती है। मीथेन और अन्य ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन के सबसे बड़े मानवीय स्रोतों में मवेशी और कचरे का निपटारा शामिल हैं। संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों के मुताबिक इन गतिविधियों से कुल उत्सर्जन का 30 प्रतिशत हिस्सा आता है। उसके बाद तेल और गैस उद्योगों का नंबर है जो 19 फीसदी ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जित करते हैं। कचरे के ढेरों यानी लैंडफिल्स का योगदान 17 प्रतिशत है। मेथेन 30 करोड़ कार के बराबर उत्सर्जन को रोकती है। केवल शहरों में कचरे के निपटारे में मामूली बदलाव कर उत्सर्जन में भारी कमी लाई जा सकती है। इसके बचाव से करीब सालाना 30 करोड़ कारों द्वारा होने वाले उत्सर्जन के बराबर मेथेन गैस उत्सर्जन होने से बचेगी।

 

 इस तकनीकि में काम करने वाले लोगों ने ‘जीरो वेस्ट' जैसी रणनीतियों का अध्ययन किया है। इस तकनीकी में ऑर्गैनिक, रीसाइकलयोग्य और अन्य कचरे को अलग-अलग किया जाता है। इस तरीके से कचरे के निवारण की पूरी व्यवस्था में से मीथेन कम नहीं होगी। इस तकनिकी से फिर भी मीथेन के उत्सर्जन में 13 फीसदी की कमी लाई जा सकती है।  विशेषज्ञों के अनुसार कचरा कम करने से ना सिर्फ मीथेन घटेगी बल्कि निर्माण, यातायात और चीजों के उपभोग से होने वाले कार्बन उत्सर्जन में भी कमी आएगी।

 

बेहतर कचरा निवारण जलवायु परिवर्तन से निपटने का एक उपाय है। इसमे कोई महंगी और नई तकनीकों की जरूरत नहीं है। यह सिर्फ अपने उपभोग और उत्पादन पर ज्यादा ध्यान देना है। इसके लिए जिस चीज की जरूरत नहीं है उसको यूज करने से बचना है।  कचरे का निवारण पेरिस समझौते के 1.5 डिग्री सेल्सियस के लक्ष्यों को हासिल करने की दिशा में एक अहम कदम होगा। दुनिया के आठ शहरों के कचरे के निवारण की व्यवस्था में परिवर्तन के मॉडल बनाकर यह दिखाया कि अगर इन मॉडलों को अपनाया जाए तो ये शहर लगभग कचरे से होने वाले उत्सर्जन को 84 फीसदी तक कम कर सकते हैं। 

 

Related Posts

Follow Us