भैंसों की टक्कर से टूटी थी लग्जरी ट्रेन की नाक, अब भैंसों के मालिकों पर FIR

भैंसों की टक्कर से टूटी थी लग्जरी ट्रेन की नाक, अब भैंसों के मालिकों पर FIR

पिछले दिनों मुंबई और गांधीनगर के बीच शुरु हुई वंदे-भारत एक्सप्रेस ट्रेन के बृहस्पतिवार सुबह गुजरात में भैंसों के एक झुंड से टकराने के मामले में रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने इन मवेशियों के मालिकों के खिलाफ मामला दर्ज किया। पश्चिम रेलवे की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि भैंसों के झुंड से टकराने के बाद क्षतिग्रस्त हुए हिस्से की मुंबई में मरम्मत कर दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि हाल ही में शुरू हुई मुंबई सेंट्रल-गांधीनगर वंदे भारत ट्रेन बृहस्पतिवार को पूर्वाह्न करीब 11:15 बजे अहमदाबाद के पास ट्रेक पर अचानक आई भैंसों के झुंड से टकरा गई थी। ट्रेन उस समय गांधीनगर की तरफ जा रही थी। हादसे में चार भैंसों की मौत हो गई।

 

भैंसों के अज्ञात मालिकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज


पश्चिम रेलवे के वरिष्ठ प्रवक्ता अहमदाबाद मंडल जितेंद्र कुमार जयंत ने कहा, ''आरपीएफ ने अहमदाबाद में वटवा और मणिनगर रेलवे स्टेशनों के बीच वंदे भारत ट्रेन के रास्ते में आने वाली भैंसों के अज्ञात मालिकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।'' वटवा रेलवे स्टेशन पर तैनात आरपीएफ निरीक्षक प्रदीप शर्मा ने कहा कि ट्रेन के क्षतिग्रस्त हिस्से के संबंध में रेलवे अधिनियम, 1989 की धारा-147 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। उन्होंने कहा, ''इस घटना के सिलसिले में बृहस्पतिवार शाम को प्राथमिकी दर्ज की गई थी।''

 

अभी तक मवेशियों के मालिकों की पहचान नहीं हुई

 


उन्होंने कहा कि रेलवे पुलिस अभी तक मवेशियों के मालिकों की पहचान नहीं कर पाई है और इसके लिए प्रयास जारी हैं। शर्मा ने कहा कि घटना अहमदाबाद शहर के बाहरी इलाके में वटवा रेलवे स्टेशन के पास पुनीतनगर इलाके में हुई थी। पश्चिम रेलवे ने बयान में कहा, ''वंदे भारत एक्सप्रेस के एफआरपी (फाइबर प्रबलित प्लास्टिक) से बने इंजन के क्षतिग्रस्त अगले हिस्से की मुंबई में मरम्मत कर दी गई है।'' पश्चिम रेलवे के ही के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर ने कहा, ''भैंसों के झुंड़ से टकराने की घटना में ट्रेन के इंजन का अगला हिस्सा और उसके माउंटिंग ब्रैकेट क्षतिग्रस्त हो गए थे। हालांकि, अन्य हिस्सों को नुकसान नहीं पहुंचा। क्षतिग्रस्त हिस्से की मुंबई सेंट्रल के कोच केयर सेंटर में मरम्मत कर दी गई।''

 

30 सितंबर को हरी झंडी दिखाकर पीएम ने की थी शुरूआत


उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार को हुई घटना के बाद, ट्रेन ने गांधीनगर स्टेशन और वापस मुंबई सेंट्रल तक की दूरी क्षतिग्रस्त हिस्से के साथ तय की थी। लेकिन ट्रेन के किसी भी परिचालनात्मक हिस्से को नुकसान नहीं पहुंचा। उन्होंने कहा, ''क्षतिग्रस्त हिस्से को शुक्रवार को कुछ ही समय में बदल दिया गया और बिना किसी अतिरिक्त देरी के वापस सेवा में लगा दिया गया है।'' अधिकारी के मुताबिक, पश्चिम रेलवे भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सभी जरूरी कदम उठा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधीनगर और मुंबई के बीच चलने वाली सेमी-हाई स्पीड वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के नए और उन्नत संस्करण को 30 सितंबर को हरी झंडी दिखाकर इस सेवा की शुरुआत की थी। देश में चलने वाली यह तीसरी वंदे भारत ट्रेन है।

Recent News

Related Posts

Follow Us