जाने, क्यों भुखमरी के मामले में भारत से बेहतर देश पाकिस्तान और श्रीलंका

जाने, क्यों  भुखमरी के मामले में भारत से बेहतर देश पाकिस्तान और श्रीलंका

WHO रिपोर्ट के अनुसार भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार की भुखमरी स्थिति भारत से बेहतर है। जबकि 121 देशों की सूची में पाकिस्तान 99वें, श्रीलंका 64वें, बांग्लादेश 84वें, नेपाल 81वें व म्यांमार 71वें स्थान पर पाएं गए है।


world Global Hunger Index के अनुसार भारत की स्थिति और भी खराब हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक, भारत पहले 101 स्थान पर था जो अब छह पायदान नीचे खिसक कर 107वें स्थान पर पहुंच गया है। दक्षिण एशियाई देशों की बात करें तो भारत की स्थिति युद्धग्रस्त देश अफगानिस्तान से कुछ बेहतर है। 29.1 स्कोर के साथ ग्लोबल हंगर इंडेक्स के प्रकाशकों ने भारत में 'भूख' की स्थिति को गंभीर बताया है। वहीं अगर पड़ोसी देशों की बात करें तो पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार की स्थिति हमसे बेहतर बताई गयी है। जो 121 देशों की सूची में पाकिस्तान 99वें, श्रीलंका 64वें, बांग्लादेश 84वें, नेपाल 81वें व म्यांमार 71वें स्थान पर है। 


इन देशों में भारत से भी खराब स्थिति 


ग्लोबल हंगर इंडेक्स के आंकड़ों को देखें तो जॉम्बिया, अफगानिस्तान, तिमोर-लेस्ते, गिनी-बिसाऊ, सिएरा लियोन, लेसोथो, साइबेरिया, नाइजर, हैती, चाड, डेम कांगो, मेडागास्कर, मध्य अफ्रीकी गणराज्य और यमन की भुखमरी स्थिति भारत से भी ज्यादा खराब है। इन सब देशो के अलावा रिपोर्ट में कहा गया है कि गिनी, मोजाम्बिक, युगांडा, जिम्बाब्वे, बुरुंडी, सोमालिया, दक्षिण सूडान और सीरिया सहित 15 देशों के लिए रैंक का निर्धारण नहीं किया जा सकता है।


वैश्विक भूख सूचकांक के आंकड़े सामने आने के बाद विपक्ष, सरकार पर हावी हो रहा है। कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा कि मोदी सरकार के आठ साल में 2014 के बाद से भारत का स्कोर खराब होता चला आ रहा है। पी चिदंबरम ने कहा कि bjp द्वारा हमेश हिंदुत्व, हिंदी थोपना और नफरत फैलाना भूख की दवा नहीं है। इसके अलावा कार्ति चिदंबरम ने ट्वीट किया कि भाजपा सरकार इन आंकड़ों को खारिज कर देगी और स्टडी करने वाले संगठन पर छापा ही मार सकेगी। सिसोदिया ने भी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा भारत को पांच ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनाने के बारे में भाषण देती है, लेकिन 106 देश दिन में दो समय का भोजन उपलब्ध कराने में हमसे बेहतर हैं। उन्होंने आगे कहा, भारत के हर बच्चे को अच्छी शिक्षा दिए बिना ऐसे आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है। 

Recent News

Related Posts

Follow Us