मध्य प्रदेश हादसे से सहमा सहरसा , एक साथ तीन मजदूरों की निकली अंतिम यात्रा

मध्य प्रदेश हादसे से सहमा सहरसा , एक साथ तीन मजदूरों की निकली अंतिम यात्रा

सलखुआ,सहरसा(बिहार) :: 22 अक्टूबर को मध्य प्रदेश के इंदौर में सड़क हादसे के शिकार हुए तीन मजदूर का शव मंगलवार को एम्बुलेंस से सलखुआ प्रखंड के मुसहरनिंया गांव आया। हिन्दू वैदिक रीति रिवाज के साथ तीनों मजदूर युवकों दाह संस्कार कर दिया गया। 
इससे पहले सुबह करीब छः बजे करीब 15 सौ किलोमीटर की दूरी तय कर तीनों मजदूर युवकों का गांव गांव लाया गया। शव गांव पहुंचते हैं परिजनों के सुख चुके आंसू पुनः अविरल धारा में बहने लगा। एक साथ गांव से तीन युवकों का अर्थी निकलने से पुरा गांव गमहीन हो गया। बड़ी संख्या में पहुंचे ग्रामीण व पंचायत प्रतिनिधि परिजनों को ढांढस बंधाते नजर आए। मृतक निती पासवान के पुत्र 18 वर्षीय कांग्रेस कुमार पासवन को मुख्यागनि छोटे भाई छोटकू पासवान ने दी। वहीं विद्यानंद पासवान के 32 वर्षीय पुत्र बाबु साहब पासवान का भतीजा लव कुश कुमार ने जबकि अशोक पासवान के पुत्र 28 वर्षीय कारी पासवान उर्फ अरूण पासवान को मुखाग्नि पुत्र आरूस कुमार ने दी। मंगलवार को कारी पासवान की नवजात पुत्री का छठी है। 

इस मौके पर परिजनों को ढांढस बंधाने पहुंचे सलखुआ प्रखंड प्रमुख प्रतिनिधि मनोज यादव ने कहा कि पीड़ित परिवार को सरकार प्रवासी मजदूर योजना के तहत लाभ दे। उन्होंने कहा जिस कंपनी में मजदूर काम करते थे उस कंपनी को भी सहायता पीड़ित परिवार को करनी चाहिए। लेकिन उस कंपनी ने शव तक को गांव भेजवाने की जिम्मेदारी नहीं ली जो बहुत दुखद है। 

Also Read मकनपुर मेले के लिए पुलिस के चाक चौबंद इंतजाम

40 हजार भाड़ा देकर एम्बुलेंस से गांव आया शव.

तीन युवकों के शव को लेकर आथ आए गणेश पासवान, नंदकिशोर पासवान ने बताया कि इंदौर के स्थानीय से 40 हजार रुपए भाड़ा कर एम्बुलेंस से गांव आए हैं। जिस कंपनी में हमलोग काम करते थे उस कंपनी सुधी नहीं ली जो बहुत दुखद है। रविवार को तीनों का शव लेकर मंगलवार की सुबह गांव पहुंचे। 

नवजात बच्ची के छठी दिन घर पहुंचा पिता का शव.

इंदौर में सड़क हादसे का शिकार हुए तीन युवकों में कारी पासवान उर्फ अरूण के घर छह तीन पहले लक्ष्मी का आगमन हुआ था। पत्नी काजल देवी गोद में नवजात लिए मृतक पति का मुंह देख दहाड़ मार रो कर बेहोश हो रही थी। मंगलवार को घर में बच्ची का छठी था लेकिन खुशी का माहौल गम में बदल गया। 

मृतक बाबू साहब को पुत्री ने दी मुखाग्नि.

मृतक बाबू साहब पासवान की शादी 2009 में सिमरी बख्तियारपुर के भंवरी गांव में भागमंती देवी से हुआ था। उसे मात्र एक पांच साल की बेटी है। पुत्री ने ही पिता को मुखाग्नि दी। पत्नी भागमंती देवी के समक्ष अपनी पुत्री की परवरिश व परिवार चलाने दुख खड़ा हो गया है। इस मौके पर मुखिया उमेश साह, सरपंच मिथिलेश साह, पूर्व उपप्रमुख रवीन्द्र पासवान, किशोर कुमार व सलखुआ थाना के एएसआई संजय कुमार सहित अन्य लोग मौजूद रहे।‌‌

  • रिपोर्ट : गोपाल कृष्ण 

 

 

Related Posts

Follow Us