कानपुर मेट्रो: भूमिगत सेक्शन पर तेजी से हो रहा काम, झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन की 50% रूफ़ स्लैब भी तैयार

कानपुर मेट्रो: भूमिगत सेक्शन पर तेजी से हो रहा काम, झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन की 50% रूफ़ स्लैब भी तैयार

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लि. (यूपीएमआरसीएल) द्वारा कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के पहले कॉरिडोर (आईआईटी-कानपुर से नौबस्ता) के अंतर्गत कानपुर सेंट्रल और ट्रांसपोर्ट नगर के बीच लगभग 3 किमी. लंबे भूमिगत सेक्शन का निर्माण किया जा रहा है। आज इस सेक्शन के झकरकट्टी भूमिगत मेट्रो स्टेशन पर डायफ़्राम वॉल (डी-वॉल) का काम महज 4 माह में पूरा कर लिया गया है।  

वर्तमान में झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन पर डी-वॉल का काम पूरा हो चुका है और रूफ़ स्लैब (स्टेशन की छत) की ढलाई का काम भी 50% तक पूरा हो गया है। इस सेक्शन के ट्रांसपोर्ट नगर मेट्रो स्टेशन पर डी-वॉल का काम लगभग 65% तक पूरा किया जा चुका है और इसके अतिरिक्त रूफ़ स्लैब और प्रवेश-निकास द्वार तैयार करने का काम भी चल रहा है। जहाँ झकरकट्टी मेट्रो स्टेशन में 66 डी-वॉल पैनल्स लगाए गए हैं, वहीं ट्रांसपोर्ट नगर मेट्रो स्टेशन में कुल 84 डी-वॉल पैनल्स लगने हैं। इन डी-वॉल पैनल्स की चौड़ाई लगभग 6 मीटर और मोटाई लगभग 1 मीटर है तथा इन्हें 19 मीटर गहराई तक तैयार किया जा रहा है। डी-वॉल को मेट्रो स्टेशन की बाउंड्री के रूप में समझा जा सकता है। आयताकार आरसीसी पैनल्स के साथ डी-वॉल तैयार की जाती है।

इस अवसर पर कानपुर मेट्रो की टीम को बधाई देते हुए यूपीएमआरसीएल के प्रबंध निदेशक सुशील कुमार प्रबंध निदेशक ने कहा कि कानपुर सेंट्रल से ट्रांसपोर्ट नगर के बीच बन रहा भूमिगत सेक्शन शहर के सबसे व्यस्ततम इलाक़ों से होकर गुज़रता है। यहाँ मेट्रो कॉरिडोर का निर्माण काफ़ी चुनौतीपूर्ण है और हमारी टीम पूरी कुशलता के साथ अपना काम कर रही है। प्राथमिक सेक्शन के बाद, पहले कॉरिडोर के शेष हिस्से पर निर्माण कार्य तेज़ी के साथ किए जा रहे हैं। इतने कम समय में झकरकट्टी भूमिगत मेट्रो स्टेशन की डी-वॉल काम पूरा कर लेना, हमारे लिए एक बड़ी उपलब्धि है।”


कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के पहले कॉरिडोर के अंतर्गत 9 किमी. लंबे प्राथमिक सेक्शन (आईआईटी-मोतीझील) पर यात्री सेवाओं का परिचालन जारी है। इसके आगे लगभग 7 किमी. लंबे भूमिगत सेक्शन पर दो भागों में (चुन्नीगंज से नयागंज और कानपुर सेंट्रल से ट्रांसपोर्ट नगर) पर निर्माण कार्य क्रियान्वित किए जा रहे हैं तथा बचे हुए लगभग 5 किमी. लंबे उपरिगामी सेक्शन (बारादेवी से नौबस्ता) पर पाइलिंग का काम चल रहा है।

Recent News

Related Posts

Follow Us