घायल होते हुए भी एक शख्स ने 60 लोगों की जान बचायी

घायल होते हुए भी एक शख्स ने 60 लोगों की जान बचायी

गुजरात में मोरबी पुल टूटने से करीब 150 लोंगो की जान चली गयी। इस पुल हादसे के समय करीब 400 लोग पुल में थे। जब पुल हादसा हुआ तो लोग पुल से नीचे गिर रहे थे तभी नईम ने चोटिल होने के बावजूद करीब 60 लोंगो की जान बचा ली। नईम को तैरना आता था। उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर पचास से साठ लोगों को मौत के मुंह से बाहर निकाला। नईम के मुताबिक, हादसे के समय वह अपने पांच दोस्तों के साथ पुल पर ही मौजूद था। इन पांच में से एक दोस्त की भी मौत हो गई।


गुजरात में पुल हादसे के बीच एक शख्स ने सांप्रदायिक सद्भावना की मिसाल कायम की है। हादसे में जहां करीब डेढ़ सौ लोगों की जान चली गई। वहीं, शख्स ने 60 लोगों की जिंदगियां बचा लीं। ये शख्स खुद हादसे के पीड़ितों में से एक है, लेकिन इसने दूसरों के जीवन को बचाने के लिए अपनी जान खतरे में डाली। नईम इस समय चोटिल होने की वजह से मोरबी के सिविल हॉस्पिटल में इलाज करा रहे हैं। 


2 नवंबर को राष्ट्रीय शोक 


गुजरात सरकार ने हादसे के मृतकों को श्रद्धांजलि देने के लिए 2 नवंबर को शोक की घोषणा की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर हादसे की स्थिति की समीक्षा की गई। इसके बाद यह राज्यव्यापी शोक का फैसला लिया गया। प्रधानमंत्री आज दिनांक 01 नवंबर 2022 को गुजरात में पहुंचे हैं। 

Recent News

Related Posts

Follow Us