आधार कार्ड न होने पर डॉक्टरों ने गर्भवती को घर वापस भेजा, घर में हुई मौत

आधार कार्ड न होने पर डॉक्टरों ने गर्भवती को घर वापस भेजा, घर में हुई मौत

वैसे तो देश का प्राथमिक कार्ड आधार कार्ड माना जाता है। इसीलिए सरकार ने सभी विषयों में प्रथम अनिवार्य कार्ड आधार कार्ड कर दिया है। इसी आधार कार्ड को लेकर एक गर्भवती महिला को अस्पताल में एडमिट न मिलने पर उसकी मौत हो गयी। अस्पताल में आधार कार्ड मांगने पर गर्भवती महिला ने जब आधार कार्ड नहीं दे पायी तो अस्पताल के कर्मचारियों ने उसे एडमिट करने से मना कर दिया। एडमिट न होने के कारण गर्भवती महिला के घर वाले प्रसव के लिए महिला को घर ले आये। घर में असुविधा के कारण जुड़वां बच्चो को जन्म देने में महिला की मौत मृत्यु हो गयी। थोड़ी देर बाद बच्चे भी ख़तम हो गए।
 

लगातार डॉक्टरों की लापरवाही से लोगो की जा रही जाने 


कर्नाटक में डॉक्टरों व अस्पताल प्रशासन की लापरवाही के कारण एक महिला व उसके दो जुडवां नवजात बच्चों की मौत हो गयी। घटना तुमकुरू जिले की है जिसमे महिला के पास कथित तौर पर आधार या मातृत्व कार्ड न होने के कारण अस्पताल प्रशासन से उसे एडमिट करने से इनकार कर दिया, जिससे प्रसव के दौरान महिला व उसके दो नवजातों की मौत हो गई। मृतक महिला का नाम कस्तूरी था। वह भारती नगर स्थित एक घर में एक अन्य लड़की के साथ रह रही थी। महिला का पति बाहर रहता था। जब बुधवार शाम महिला को प्रसव पीड़ा हुई तो पड़ोसी उसे एक ऑटोरिक्शा से तुमकुरू जिला अस्पताल ले गए। हालांकि, अस्पताल प्रशासन ने आधार व मातृत्व कार्ड न होने पर महिला को भर्ती करने से इनकार कर दिया और उसे वापस घर भेज दिया। 

Recent News

Related Posts

Follow Us