दो साल पहले भी आफताब ने दी थी टुकड़े- टुकड़े करने की धमकी 

दो साल पहले भी आफताब ने दी थी टुकड़े- टुकड़े करने की धमकी 

श्रद्धा वालकर केस में एक बड़ा खुलासा हुआ है। इस केस मे आफ़ताब वर्ष 2020 में ही श्रद्धा को मारकर उन्हें टुकड़े-टुकड़े कर बाहर फेकने की धमकी दी थी। जिससे श्रद्धा वालकर ने 23 नवंबर 2020 को आफ़ताब के खिलाफ अपने जान के खतरे की वसई पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज करायी थी। लेकिन पुलिस के द्वारा सही से कार्यवाही नहीं की गयी। अगर पुलिस के द्वारा तभी सही से कार्यवाही की जाती तो आज श्रद्धा वालकर की जान बचायी जा सकती थी। इसके अलावा तुलिंज पुलिस स्टेशन में श्रद्धा वालकर ने अपने प्रेमी आफ़ताब के द्वारा जान से मारने की धमकी की रिपोर्ट भेजी थी। यह रिपोर्ट पुलिस स्टेशन में श्रद्धा ने तब भेजी थी जब श्रद्धा और आफताब दोनों वसई में रहा करते थे। 

 

Also Read राजस्थान की परंपराओं और संस्कृति के अनछुए पहलुओं को सामंजस्य में लाने का प्रयास करेगी फिल्म 'केसर कस्तूरी' 

दोनों ही शिकायतों में एक बात कॉमन है कि श्रद्धा अपने प्रेमी के साथ रहने में डरी हुई थी। आफताब हमेशा श्रद्धा वालकर को मारता-पीटता रहता था। यह बात आफताब के माता-पिता को भी पता थी लेकिन माता-पिता ने आफ़ताब को सही गलत नहीं समझाया। श्रद्धा आफ़ताब के साथ रहती थी और शादी करना भी चाहती थी परन्तु आफताब, श्रद्धा वालकर को लगातार मारता था। आफताब की इन हरकतों से श्रद्धा आफ़ताब से शादी भी नहीं करना चाहती थी। श्रद्धा वालकर ने अपने पत्र में यह कहा है की मैं आफ़ताब से इतनी ज्यादा डरी हुई थी की मुझमें शिकायत करने की हिम्मत नहीं थी। श्रद्धा ने पत्र में अपना दुःख जाहिर किया कि आफ़ताब मुझे लगातार 6 महीनो से पीट रहा था और आफताब के माँ-बाप आफताब से मिलने फ़्लैट में आते थे। श्रद्धा ने अपने पत्र में यह भी लिखा था की मेरी जान को खतरा है यदि मैं मारी गयी तो इसके जिम्मेदार आफताब होंगे। 

Recent News

Related Posts

Follow Us