कानपुर मेट्रो: बारादेवी-नौबस्ता एलिवेटेड सेक्शन के लिए U-गर्डर निर्माण शुरू, नौबस्ता स्थित कास्टिंग यार्ड में तैयार होंगे गर्डर्स

कानपुर मेट्रो: बारादेवी-नौबस्ता एलिवेटेड सेक्शन के लिए U-गर्डर निर्माण शुरू, नौबस्ता स्थित कास्टिंग यार्ड में तैयार होंगे गर्डर्स

कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के पहले कॉरिडोर (आईआईटी-कानपुर से नौबस्ता तक) के अंतर्गत बारादेवी से नौबस्ता के बीच लगभग 5 किमी. लंबे एलिवेटेड सेक्शन का निर्माण हो रहा है। इस सेक्शन की प्री-कास्ट संरचनाएँ तैयार करने के लिए नौबस्ता में कास्टिंग यार्ड तैयार किया गया है और इस कास्टिंग यार्ड में आज उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लि. (यूपीएमआरसी) के प्रबंध निदेशक श्री सुशील कुमार के कर-कमलों से U-गर्डर्स की कास्टिंग का शुभारंभ हुआ। यूपीएमआरसी के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित रहे। शुभारंभ के बाद उन्होंने बड़ा चौराहा से नयागंज भूमिगत सेक्शन के टनल निर्माण कार्य का भी निरीक्षण किया और कार्य की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया।

प्रबंध निदेशक ने इस अवसर पर यूपीएमआरसी की टीम को बधाई देते हुए कहा, “एलिवेटेड मेट्रो कॉरिडोर के सिविल ढाँचे की कई संरचनाएँ प्री-कास्ट होती हैं और इन्हें कास्टिंग यार्ड में तैयार किया जाता है। कास्टिंग यार्ड में निर्माण के बाद इन्हें गुणवत्ता एवं सुरक्षा के मानकों पर परखा जाता है। उपयुक्त पाए जाने पर इन्हें निर्माण स्थल पर भेज दिया जाता है, जहाँ क्रेन की सहायता से निर्धारित स्थान पर इनका परिनिर्माण (इरेक्शन) किया जाता है। प्री-कास्ट संरचनाओं के प्रयोग की यह प्रणाली इसलिए अपनाई जाती है ताकि पूरी गुणवत्ता के साथ निर्माण कार्यों में तेज़ी लाई जा सके।”

नौबस्ता स्थित कास्टिंग यार्ड की विशेषताएँ :

➡️ कास्टिंग यार्ड लगभग 5 हेक्टेयर की भूमि में फैला है।
➡️ यहाँ U-गर्डर्स तैयार करने के लिए 2 बेड होंगे और प्रत्येक बेड से एक बार में 5 U-यूर्डर्स की ढलाई होगी।
➡️ डबल T-गर्डर्स की ढलाई के लिए 12 बेड होंगे यानी इस कास्टिंग यार्ड में एक समय पर 12 डबल T-गर्डर्स एकसाथ तैयार किए जा सकेंगे।
➡️ पियर कैप्स की ढलाई के लिए 7 मोल्ड्स (साँचे) होंगे।

Recent News

Related Posts

Follow Us