डिजिटल बना अर्दली , वर्दी पर बारकोड लगा कर लेता था बख्शीश, हो गया सस्पेंड

डिजिटल बना अर्दली , वर्दी पर बारकोड लगा कर लेता था बख्शीश, हो गया सस्पेंड

उत्तर प्रदेश :-: आज तक आपने डिजिटल भिकारी तो देखे होंगे लेकिन क्या आपने कभी किसी को रिश्वत लेने के लिए डिजिटल तरीका अपनाते देखा है। जी हां सही सुना आपने उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में इलाहाबाद हाई कोर्ट कैंपस में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया। यहां हाई कोर्ट के जज कार्ड डिजिटल अर्दली की कहानी जब सबके सामने आई तो सब हैरान हो गए। आपको बता दें कि हाईकोर्ट के जज का अर्दली इतना हाईटेक निकला कि वह वर्दी पर बारकोड स्कैनर लगाकर रखता था। क‍िसी से बख्शीश लेनी होती तो फौरन बारकोड आगे कर देता। ज‍िससे समाने बाला बारकोड स्‍कैन कर पेमेंट एप्‍स के जर‍िए रुपये लेता था।

यह मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट के कैंपस का है जहां पर जज का अर्दली अपनी वर्दी पर पेटीएम का बॉलर लगाकर वकीलों से बख्शीश लेता था। फिलहाल वकीलों से बख्शीश लेने वाले  अर्दली राजेन्द्र कुमार को महानिबंधक ने निलंबित कर दिया है। आपको बता दें कि मुख्य न्यायधीश ने इंटरनेट पर वायरल हो रही फोटो को गंभीरता से लिया और कार्रवाई करने के आदेश दिए। इस पर हाई कोर्ट के महानिबंधक आशीष गर्ग ने निलंबन की कार्रवाई कर दी। राजेन्द्र कुमार जस्टिस अजीत सिंह का अर्दली है।

निलंबन अवधि के दौरान राजेंद्र कुमार नजारत सेक्शन से संबद्ध रहेगा। कोर्ट की अनुमति के बिना वह अपना स्टेशन भी नहीं छोड़ सकेगा। आरोप है कि वह कोर्ट कैंपस में अपनी वर्दी पर पेटीएम का वालेट लगाकर घूमता था। फुटकर न होने की दशा में उसी पर वकीलों से बख्शीश मांगता था।

 

 

Recent News

Related Posts

Follow Us