क्या नई वैश्विक वित्त प्रणाली की ओर पहला कदम बनेगा पेरिस शिखर सम्मेलन?

क्या नई वैश्विक वित्त प्रणाली की ओर पहला कदम बनेगा पेरिस शिखर सम्मेलन?

पेरिस में सम्पन्न हुई समिट फॉर न्यू ग्लोबल फाइनेंसिंग पैक्ट को दुनिया की सबसे उन्नत अर्थव्यवस्थाओं से जुड़े नियमित जलवायु सम्मेलन (सीओपी), जी7 और जी20 सम्मेलनों के अलावा एक और अंतरराष्ट्रीय बैठक के रूप में देखा जा सकता है। मगर इसमें कुछ खास था और इससे कई उम्मीदें भी बंधती दिखती हैं।  
 
पेरिस ने इस समिट में दो दिनों के लिए 40 राष्ट्राध्यक्षों सहित लगभग 1,500 प्रतिभागियों की मेजबानी की। इस समिट के बारे में बोलते हुए फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने समापन प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस बात पर जोर दिया कि यह शिखर सम्मेलन एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। उन्होंने कहा, "इन दो दिनों ने हमें ग्रह के लिए एक नई आम सहमति स्थापित करने में मदद की। हमने एक साझा राजनीतिक परिप्रेक्ष्य को रेखांकित करते हुए एक दस्तावेज़ बनाया है जो हमें अंतरराष्ट्रीय वित्तीय वास्तुकला और शासन के गहन सुधार की दिशा में मार्गदर्शन करेगा।" मैक्रॉन ने यह भी कहा, "इस शिखर सम्मेलन का उद्देश्य हमारे सामने मौजूद दोहरी चुनौती: असमानताओं का मुकाबला करना और जलवायु परिवर्तन को संबोधित करना" के जवाब में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के बीच एकता को बढ़ावा देना है।

शिखर सम्मेलन की प्रमुख झलकियां

प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित देशों के लिए वर्ल्ड बैंक द्वारा कर्ज चुकाने में सहूलियत  
यह ब्रिजटाउन एजेंडा का एक प्रमुख भाग था: जब कोई देश प्राकृतिक आपदा या महामारी की चपेट में आता है तो कर्ज भुगतान को स्वचालित रूप से कुछ समय के लिए रोकने के लिए विशेष कर्ज ठहराव खंड तैयार किए जाते हैं। शिखर सम्मेलन के दौरान, विश्व बैंक ने क्लाइमेट रेसिलिएंट डेब्ट क्लॉज़ेस (जलवायु लचीले कर्ज खंड) लॉन्च किये, जो इस तरह का विराम प्रदान करेंगे। बैंक देशों को संकट के दौरान आपातकालीन जरूरतों के लिए विश्व बैंक द्वारा उधार दी गई धनराशि को डायवर्ट करने का बूता भी प्रदान करेगा। इसके अतिरिक्त, यूके की निर्यात क्रेडिट एजेंसी, यूके एक्सपोर्ट फाइनेंस ने भी घोषणा की कि वह अफ्रीका और कैरेबियन में बारह भागीदार देशों के साथ अपने नए और मौजूदा कर्ज समझौतों में इन खंडों को जोड़ेगी।

चीन और आईएमएफ के साथ 6.3 अरब डॉलर के ऐतिहासिक कर्ज पुनर्गठन पर जाम्बिया हुआ सहमत  
साल 2020 में, जाम्बिया ने महामारी के दौरान अपने संप्रभु ऋण पर चूक की, और तब से यह द्विपक्षीय ऋणदाताओं (ज्यादातर चीन और आईएमएफ), निजी ऋणदाताओं और अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के ऋणदाताओं के साथ ऋण पुनर्गठन पर बातचीत कर रहा है। कल जाम्बिया के राष्ट्रपति हाकैंडे हिचिलेमा ने घोषणा की कि द्विपक्षीय ऋणदाताओं के साथ एक समझौता हुआ है, जिसमें ऋणदाताओं के लिए ब्याज दरों में कमी, पूर्ण पुनर्भुगतान पर तीन साल की रोक (केवल ब्याज भुगतान प्रदान किया जाएगा) और $6.3 बिलियन के ऋण को चुकाने की अवधि पर 20 साल का एक्स्टेंशन शामिल है। पुनर्गठन के लिए चीन का सहमति विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि चीन विकासशील देशों के लिए सबसे बड़ा ऋणदाता बन गया है, और ऋण भुगतान पर समझौता करने में अनिच्छुक रहा है। यह संभवतः घाना जैसे अन्य ऋण-संकटग्रस्त देशों के लिए समान ऋण पुनर्गठन समझौते हासिल करने और आगे के आर्थिक संकटों को रोकने का मार्ग प्रशस्त कर सकता है।

सेनेगल के साथ जस्ट एनर्जी ट्रांजिशन पार्टनरशिप (जेईटीपी) डील की घोषणा
देश को 2030 तक स्थापित 40% रिन्यूएबल एनर्जी क्षमता के लक्ष्य तक पहुंचने में मदद करने के लिए सेनेगल के साथ कुल 2.74 बिलियन डॉलर की एक नई जस्ट एनर्जी ट्रांजिशन पार्टनरशिप (जेईटीपी) डील की घोषणा की गई। यह डील फ्रांस, जर्मनी, यूरोपीय संघ, यूनाइटेड किंगडम और कनाडा द्वारा समर्थित है और यह कोयला पावर को समाप्त करने के बजाय रिन्यूएबल एनर्जी को बढ़ाने के लिए विशेष रूप से समर्पित होने वाली पहली डील है। पिछली वार्ताओं में, सेनेगल सरकार जेईटीपी में गैस के लिए वित्तपोषण पर जोर दे रही थी, और जर्मनी सेनेगल से नई एलएनजी आपूर्ति की सोर्सिंग की संभावना एक्सप्लोर कर रहा था।

स्पेशल ड्राइंग राइट्स के पुनर्चक्रण पर हुई प्रगति, मगर अमेरिकी कांग्रेस में लंबित अनुमोदन बनाहुआ है बाधक  
हाल ही में बेल्जियम और स्विटज़रलैंड द्वारा की गई प्रतिज्ञा के साथ, फ़्रांस ने अपनी पिछली प्रतिज्ञा को बढ़ाकर 40% एसडीआर रीसाइक्लिंग कर दिया, जिसका मतलब होता कि $100 बिलियन का लक्ष्य पूरा हो जाता, लेकिन अमेरिका द्वारा 21 अरब डॉलर के योगदान का वादा महीनों से अमेरिकी कांग्रेस की मंजूरी के लिए लंबित है, जिससे इस लक्ष्य को पूरा करने का दावा संदिग्ध हो गया है। इस के अलावा, कोलंबिया के राष्ट्रपति पेट्रो और केन्या के राष्ट्रपति रुतो ने आईएमएफ से नए एसडीआर आवंटन की मांग की है। समर्थन देने का वादा करने वाले सभी देशों की सूची यहां है और एसडीआर पर एक बैकग्राउंड यहां है।

वैश्विक शिपिंग लेवी के लिए व्यापक राजनीतिक समर्थन  
वैश्विक शिपिंग लेवीकेलिएव्यापकराजनीतिकसमर्थन जलवायु वित्त में प्रति वर्ष दसियों अरब डॉलर जुटा सकता है। इस सप्ताह की घोषणाओं के साथ, वैश्विक शिपिंग पर कार्बन लेवी को अब शीर्ष तीन सबसे बड़े जहाज मालिकों में से दो (ग्रीस और जापान), शीर्ष तीन सबसे बड़े जहाज निर्माताओं में से दो (कोरिया और जापान), और तीन सबसे बड़े ध्वज राज्यों में से दो (लाइबेरिया और मार्शल द्वीप) का समर्थन प्राप्त है। आईएमओ की दो प्रमुख बैठकें होने वाली हैं: 26-30 जून को जीएचजी पर एक इंटरसेशनल वर्किंग ग्रुप (अंतरसत्रीय कार्य समूह), और 3-7 जुलाई को संशोधित रणनीति पर अंतिम समझौते को अपनाने के लिए एक बैठक।

प्रतिक्रियाएं

बारबाडोस के प्रधान मंत्री के सलाहकार अविनाश पर्सौड
“मुझे लगता है कि पेरिस एक मोड़ बिंदु है। एक विकसित रोडमैप सामने आया है जिसे हमें अपनाना चाहिए। 4 प्रमुख स्थानों के साथ। सबसे पहले, प्रणाली को अधिक आघात अवशोषक बनाने के लिए प्राकृतिक आपदा धाराएँ - अमेरिका ने निर्यात क्रेडिट के लिए एक पायलट की घोषणा की। दूसरा, विकासशील देशों में ग्रीन परिवर्तन के वित्तपोषण के लिए निजी बचत की प्रवाह को खोलना - एक नई आंशिक विदेशी मुद्रा गारंटी के पीछे गति है। तीसरा, आंशिक रूप से मौजूदा संसाधनों के बेहतर उपयोग के साथ और बाद में नई पूंजी के साथ, बहुपक्षीय विकास बैंकों द्वारा लचीलेपन को वित्तपोषित करने के लिए ट्रिपल (तीन गुना) ऋण देना। चौथा, हमें नुकसान और क्षति को निधि देने के लिए नए वैश्विक उत्सर्जन और वित्तीय करों की आवश्यकता है - कार्बन उत्सर्जन को कम करने के साथ-साथ नुकसान और क्षति का समर्थन करने के लिए, शिपिंग और विमानन में उत्सर्जन करों के लिए समर्थन बढ़ रहा है।"

डीन, फ्लेचर स्कूल – टफ्ट्स, रेचेल काइट  
"पेरिस ने दिखाया है कि वित्तीय प्रणाली को लोगों और ग्रह के लिए बेहतर बनाने के लिए रचनात्मक विचारों की कोई कमी नहीं है। लेकिन, हमेशा की तरह, यह कार्यान्वयन के बारे में है। इसके लिए पेरिस में प्रदर्शित नेतृत्व की तुलना में व्यापक नेतृत्व की आवश्यकता है।"

यूरोपियन क्लाइमेट फाउंडेशन के सीईओ लॉरेंस टुबियाना
“न्यू फाइनेंसिंग पैक्ट शिखर सम्मेलन अंततः हमारी वैश्विक वित्तीय प्रणाली के अनुचित और अपर्याप्त होने के मुद्दे को संबोधित करने की दिशा में पहला कदम है। वैश्विक दक्षिण और अफ्रीकी नेताओं ने खतरे की घंटी बजा दी है: उन्होंने एक मजबूत और स्वतंत्र आवाज उठाई है। वर्जनाएं टूट गई हैं। "स्पिरिट ऑफ़ पेरिस" ("पेरिस की भावना") को इस बैठक से आगे जाने की जरूरत है और वैश्विक उत्तर नेताओं को कार्य करने की जरूरत है। अगला कदम: सितंबर में नैरोबी अफ्रीका जलवायु शिखर सम्मेलन।
अंतर्राष्ट्रीय कराधान, ऋण निलंबन खंड, और विशेष आहरण अधिकार प्रतिज्ञाओं को पूरा करने पर बहुपक्षीय विकास बैंकों के सुधार पर कुछ प्रगति हुई है। हमें विकास, जलवायु कार्रवाई और प्रकृति के लिए वित्तपोषण के नए स्रोत खोजने के लिए ठोस कदमों के साथ इन विचारों को एक कार्य योजना में बदलने की तत्काल आवश्यकता है। अगले महीनों में राजनीतिक नेतृत्व और साहस जरूरी है। ग्लोबल नॉर्थ को इस कार्य योजना के वितरण की जिम्मेदारी लेने की आवश्यकता है। गवाने के लिए कोई समय नहीं है।"

ग्लोबल सिटीजन के सह-संस्थापक और सीईओ, ह्यू इवांस
“अपनी विशाल संयोजक शक्ति के बावजूद, एक नए वैश्विक वित्तीय समझौते के लिए शिखर सम्मेलन ने सच्चे वैश्विक वित्तीय सुधार के साथ इतिहास बनाने का अवसर गंवा दिया है। हम विश्व बैंक और बहुपक्षीय विकास बैंकों की जलवायु-संवेदनशील राष्ट्रों के लिए ऋण समझौतों में ऋण ठहराव धाराएं पेश करने की प्रतिबद्धता का दृढ़ता से स्वागत करते हैं। हम पुनः आवंटित एसडीआर में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर 40 प्रतिशत करने के लिए फ्रांस की सराहना करते हैं, जो ऐसा करने वाला दूसरा जी7 देश है। लेकिन, जबकि जलवायु-संवेदनशील और विकासशील देशों के नेताओं ने स्पष्ट रूप से अपनी ज़रूरतें व्यक्त कीं, एक बार फिर से जी7 नेता उनके लिए आगे नहीं बढ़े हैं। सबसे विशेष रूप से, अमेरिका अपनी 2009 की जलवायु वित्त प्रतिबद्धता को पूरा करने में फिर से विफल रहा है; हमने सचिव जेनेट येलेन से केवल बिना सार वाले शब्द देखे। यदि हम विकास और जलवायु परिवर्तन पर सफलता देखना चाहते हैं, तो हमें ग्लोबल साउथ और ग्लोबल नॉर्थ के बीच उभरे विश्वास की कमी को दूर करना होगा।"

स्वतंत्र जलवायु थिंक टैंक ई3जी में स्वच्छ अर्थव्यवस्था के एसोसिएट निदेशक रोनन पामर
“सेनेगल के जेईटीपी के लिए वित्त प्रदाताओं को यह सुनिश्चित करना होगा कि वे जिस पैमाने और प्रकार का वित्त प्रदान करते हैं वह सेनेगल की विकास आवश्यकताओं के अनुरूप हो। यह अधिक ऋण का तंत्र नहीं होना चाहिए। सेनेगल ने जो रिन्यूएबल्स के लिए जो लक्ष्य प्रस्तावित किया है, वह जलवायु नेतृत्व का संकेत है - देश को गैस पर दीर्घकालिक निर्भरता में बंद देखना न तो सेनेगल और न ही दुनिया के हित में है।

पावर शिफ्ट अफ्रीका के संस्थापक और निदेशक मोहम्मद अडो
"फ्रांसीसी टीवी पर कल राष्ट्रपति मैक्रॉन ने कहा कि वह सेनेगल को अपनी गैस परियोजनाओं को विकसित करने की 'अनुमति' देंगे क्योंकि वह गैस को एक संक्रमणकालीन ऊर्जा स्रोत के रूप में देखते हैं। यह एक पूर्व औपनिवेशिक शक्ति की ओर से आने वाली एक अपमानजनक टिप्पणी है और दिखाती है कि मैक्रॉन अपनी आर्थिक ताकत का उपयोग यूरोप के लाभ के लिए अफ्रीका में ऊर्जा नीतियां निर्धारित करने के लिए कैसे कर रहे हैं। मैक्रॉन जैसे यूरोपीय राजनेता यूक्रेन में युद्ध के बाद से अफ्रीका पर अधिक गैस भंडारों के लिए दबाव डाल रहे हैं, लेकिन इससे अफ्रीका को महंगे जीवाश्म ईंधन के बुनियादी ढांचे से बांधने का जोखिम है जो कुछ वर्षों में अप्रचलित हो जाएगा। यूरोप का गैस स्टेशन बनने के बजाय, अफ्रीका को 100% रिन्यूएबल ऊर्जा की ओर आगे बढ़ने के लिए निवेश की आवश्यकता है, न कि जीवाश्म ईंधन पर कीमती निवेश बर्बाद करने की। अफ्रीका ने सेल फोन में 'संक्रमण' करने के लिए लैंडलाइन फोन तकनीक का उपयोग नहीं किया, यह उस पुरानी प्रौद्योगिकी को लीपफ्रॉग (छलांग मार के पार) करने में सक्षम था। फ्रांस भले ही अब औपनिवेशिक शक्ति न होने का दावा करता हो, लेकिन मैक्रॉन की इन टिप्पणियों से पता चलता है कि वह दूर से अफ्रीका पर डोरे डालना जारी रखता है। अफ्रीका में प्रचुर मात्रा में स्वच्छ एनर्जी क्षमता है। अफ्रीका को रिन्यूएबल (ऊर्जा) में उचित निवेश की आवश्यकता है, ताकि वह जीवाश्म ईंधन उद्योग के बंधनों से मुक्त हो सके।"
 
-- Climateकहानी     

Related Posts

Follow Us